Bhopal: विवादित बयान पर पूर्व मंत्री की सफाई- गलती से मुंह से निकला प्रजनन शब्द, शादी की उम्र वाली बात पर अब भी कायम

Image Source: [email protected]Sajjan Singh Verma

Bhopal: मध्य प्रदेश कांग्रेस (Madhya Pradesh Congress) के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा (Congress Leader Sajjan Singh Verma) ने लड़कियों की शादी की उम्र को लेकर दिए विवादित बयान पर अब सफाई दी है। उनका कहना है कि, बीजेपी ने उनके बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया है। सज्जन सिंह वर्मा ने अपने बयान को सरकार की योजनाओं से जोड़ते हुए लाड़ली लक्ष्मी और कन्यादान योजना का जिक्र किया।

शादी की उम्र वाली बात पर अब भी कायम- वर्मा
उन्होंने कहा, शिवराज सरकार को लाड़ली लक्ष्मी योजना का पैसा ना देना पड़े इसलिए उम्र का जिक्र किया जा रहा है। सरकार को कन्यादान योजना में भी पैसा देना पड़ता है। हालांकि बयान पर सफाई के साथ ही पूर्व मंत्री ने ये भी स्पष्ट किया कि प्रजनन (Reproduction) शब्द गलती से मुंह से निकल गया लेकिन शादी की उम्र वाली बात पर वो अब भी कायम हैं।

‘सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए कुछ नहीं किया’
सज्जन सिंह वर्मा ने ट्वीट कर कहा, ‘बालिकाओं और महिलाओं के मुद्दों पर मैं पिछले 15 सालों से भाजपा की शिवराज सरकार के खिलाफ अपनी बात रखता आया हूं, उनका सम्मान मेरे लिए हमेशा सर्वोपरि रहा है। शिवराज सरकार ने 15 वर्षों में महिलाओं की सुरक्षा के लिए कुछ नहीं किया।

Bhopal: कांग्रेस नेता का बेतुका बयान-’15 साल में बच्चे पैदा करने लायक हो जाती हैं लड़कियां’, बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने थमाया नोटिस

कांग्रेस नेता वर्मा ने कहा, ‘शादी की उम्र बढ़ाने को लेकर ग्रामीण अंचलों की युवतियों और गरीब मां बाप की पीड़ा को क्यों नहीं समझते शिवराज? बेटियां दबंगों तथा असामाजिक तत्वों से डरी सहमी रहती हैं। हाल ही में रतलाम और सीधी की घटना ने सबको झंझोड़ दिया है। मेरा बयान उसी को लेकर था।’

मुख्यमंत्री पर निशाना साधने हुए वर्मा ने कहा, ‘अपनी नाकामी को ढकने के लिए 21वर्ष का नया जुमला लाये हैं शिवराज। हमारे समाज में शादी की उम्र मताधिकार की उम्र से जोड़कर देखी जाती है, भाजपा सरकारें मताधिकार की उम्र भी 21 वर्ष करना चाहती है जिसकी शुरुआत के रूप में वह शादी की उम्र में बदलाव करना चाहती है।’

‘गलती से मुंह से निकला प्रजनन शब्द’
उन्होंने कहा, लाड़ली लक्ष्मी योजना और कन्यादान योजना के भुगतान को टालने के लिये शिवराज शादी की उम्र बढ़ाना चाहते है। गलती से मुंह से मातृत्व की जगह प्रजनन शब्द निकला, जिसका मुझे खेद है। लेकिन मैं अपनी बात पर अब भी कायम हूं। बेटियों की शादी करने की उम्र 18 वर्ष ही रहना चाहिये 21 नहीं। अंत में शिवराज और भाजपा से कहना है कि राई का पहाड़ बना अपनी डर्टी पॉलिटिक्स करने से अच्छा है कि बेटियों की सुरक्षा और विकास के लिए कोई ठोस कदम उठायें।

दरअसल कुछ दिन पहले भोपाल में आयोजित नारी सम्मान कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने कहा था, लड़कियों की शादी की उम्र 18 से बढ़ाकर 21 साल की जानी चाहिए। इस मुद्दे पर विचार करने और बहस की जरूरत है। बेटा और बेटी को एक समान समझना होगा।

Bhopal: गैंगरेप पीड़िता को दरिंदों से बचाने वाली सागर की श्रीबाई को CM शिवराज ने किया सम्मानित, बोले- आप हैं असली हीरो

सीएम शिवराज से इसी बयान को लेकर बुधवार को कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने कहा, ‘डॉक्टरों के अनुसार लड़कियां 15 साल में प्रजनन के लायक हो जाती हैं तो किस आधार पर लड़कियों की शादी की उम्र 18 साल से बढ़ाकर 21 साल किया जाना चाहिए? शिवराज क्या डॉक्टर या वैज्ञानिक हो गए हैं? इस बयान पर विवाद बढ़ने के बाद सज्जन सिंह वर्मा ने सफाई दी है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password