Vichar Manthan: दिखावे की दुनिया में मानवता के अस्तित्व पर मंडराता संकट

Vichar Manthan: दिखावे की दुनिया में मानवता के अस्तित्व पर मंडराता संकट

Vichar-Matnhan
Share This

Vichar Manthan: आज का युग आधुनिक युग है, जहां हर क्षेत्र में विकास देखने को मिलता है। पूरी दुनिया पर आधुनिकता का भूत सवार हो चुका है।

आधुनिकता का सीधा संबध विकास से दिखाई देता है। उद्योग से लेकर प्रयोग तक यह संसार बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है।

पीछे मुड़कर देखना नहीं चाहते हैं हम

इस विकास की दौड़ में हम मानवता को भूल चुके हैं। हम एक बार भी पीछे मुड़कर देखना भी नहीं चाहते हैं, जो एक बड़ी भूल साबित हो सकती है।

कहते हैं कि इतिहास अपने आप को दोहराता है, जो हमें समय-समय पर देखने को भी मिलता है। इतना होने के बावजूद हम कुछ सीखने के मूड में नहीं हैं।

प्रकृति के साथ हो है रहा गंभीर छेड़-छाड़

आप सोच रहे होंगे कि हम ऐसी चर्चा क्यों कर रहे हैं। यदि आप भी इस विषय को समय और स्थिति के जोड़कर देखेंगे तब यह बात आपको भी सार्थक लगेगी।

हम बात कर रहे हैं प्रकृति के साथ हो रहे छेड़-छाड़ की, जहां विकास की दौड़ में आगे निकलने के लिए आए दिन वही हो रहा है, जिससे हमें बचने की जरूरत है।

ये स्थिति खासकर पहाड़ी और जंगली इलाको में ज्यादा देखने को मिलती हैं। इन सब का समय के साथ दुष्परिणाम भी देखने को मिलता है।

Vichar Manthan का विषय

ऐसे में हमें पेड़ों और पहाड़ों के साथ छेड़-छाड़ करने से बचने की जरूरत है। यदि अभी भी हमने इतिहास से कुछ नहीं सीखा तो इससे भी अधिक विकट परिस्थिति देखने को मिल सकती हैं।

इन सब बातों का कोई मतलब नहीं रह जाएगा यदि हम अमल नहीं करते हैं। यह एक विचार मंथन का विषय है, जिसपर वृहद चर्चा की जरूरत है। चर्चा के साथ-साथ इस पर अमल की ज्यादा जरूरत है।

ये भी पढ़े:

Ahar Museum Udaipur: वीरता और बहादुरी की निशानी हैं ये सेनोटाफ्स, देखकर रह जाएंगे दंग

Ashok Leyland को मिला भारतीय सेना से ऑर्डर, मेक इन इंडिया में करेगा योगदान

Oommen Chandy: पूरे केरल में शोक की लहर, राज्य के पूर्व सीएम का हुआ निधन

Agra Tourist Attack: दुकान में घुस पर्यटक को बेरहमी से पीटा, सीसीटीवी में कैद हुई घटना

जल्द शुरू होने वाला है FIFA Women’s World Cup 2023, फ्री में देखें पूरा विश्व कप

डिस्क्लेमर: विचार मंथन में प्रस्तुत आर्टिकल के विचार लेखक के निजी विचार हैं। बंसल न्यूज न तो उसका विरोध करता है और न समर्थन।

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password