भारत के टॉप 07 रेड लाइट एरिया, जहां होता है जिस्म का सौदा

पूरी दुनिया में जिस्म का धंधा आज भी फलफूल रहा है। जिस्म के इस धंधे को देह व्यापार भी कहा जाता है। हालांकि देह व्यापार महिलाओं के लिए एक तरह से कलंक है क्योंकि भारत में महिलाओं को पूज्नीय माना जाता है। लेकिन काफी अर्से से महिलाएं इस घिनौने काम में उतरने के लिए मजबूर है। वैसे तो कानून की नजरों में वेश्यावृत्ति कानूनी तौर पर अवैध है। लेकिन यह कैसा कानून है, कैसी विडंबना है कि आज भी कई महिलाएं इसे धंधे में उतरने के लिए मजबूर है। भारत में भी देह व्यापार का धंधा तेजी से फलता फूलता है। आज हम भारत के वो 10 रेड लाइट एरियों के बारे में बताने जा रहें है जो ऐशिया में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में चर्चा में बने रहते है।

पुणे बुधवार पेठ

महाराष्ट्र के पुणे में स्थित बुधवार पेठ देश में सबसे मशहूर रेडलाइट ऐरिया है। यहां बड़ी संख्या में नेपाली लडकियां देह व्यापार का काम करती है। बताया जाता है कि यहां लड़कियों को बहला-फुसलाकर इस घिनौने काम में धकेल दिया जाता है। खास बात यह है कि बुधवार पेठ पुणे का यह गंदा बाजार पुणे के विख्यात दगडूसेठ गणपति मंदिर के पास है। मंदिर जाते और लौटते वक्त आपको यहां की मुख्य सड़क पर कई लड़कियों आपको लुभाते हुए मिल जाएंगीत्र।

नागपुर गंगा-जमुना

नागपुर महाराष्ट्र की उपराजधानी है। नागपुर में स्थित गंगा जमुना इलाका देह व्यापार के लिए दुनियाभर में फेमस है। नागपुर शहर गंगा जमुना इलाके से फेमस ही नहीं बल्कि कई तरह की अपराधिक गतिविधियों के नाम से भी जाना जाता है।

ग्‍वालियर रेशमपुरा

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में रेशमपुरा एक बड़ा रेडलाइट इलाक है। बताया जा है कि रेशमपुरा के इस बाजार में विदेशी लड़कियों के साथ मॉडल्स, कॉलेज गर्ल्स मिलती है। खबरों कें अनुसार यहां मोबाइल, इंटरनेट के माध्यम से कॉलगर्ल्स की बुकिंग होती है। बुकिंग के बाद ईमेल या मोबाइल से लड़कियों की डिलीवरी की जाती है। रेशमपुरा में कॉलगर्ल्स को ठेके पर या वेतन पर रखा जाता हैं।

इलाहबाद मीरगंज

वैसे तो इलाहाबाद गंगा, जमुना और सरस्‍वती और तीर्थ के लिए भारत में प्रसिद्ध हैं लेकिन इस पवित्र धरा पर एक मीरगंज नाम का इलाका रेड लाइट ऐरिया है। मीरगंज रेड लाइट ऐरिया तकरीबन डेढ़ सौ साल पुराना बताया जाता है। यहां की पुरानी इमारतों से ढकी हुई बंद गलियों में घिनौने काम को अंजाम दिया जाता है। इस बाजार में महिलाएं सज-धज कर सड़क से आने जाने वाले को अपने पास बुलाती है। बताया जाता है कि पहले यहां कोठे भी चलाए जाते थे। यहां अवैध तरीके से देह व्‍यापार होता है।

वाराणसी शिवदासपुर

दुनिया के प्राचीन शहरों में से एक वाराणसी एक तरह से हिंदुओं का सबसे पवित्र तीर्थ है, लेकिन यहां देह व्‍यापार का इतिहास भी कई पुरानी गलियों में दिखाई देता है। यहां की दालमंडी और शिवदासपुर जैसे इलाके सालों पुराने देह व्‍यापार की मंडिया हैं। शिवदासपुर वाराणसी रेलवे स्‍टेशन से तकरीबन 3 किलोमीटर दूर स्थित इलाका यहां के रेडलाइट इलाके के रूप में फेमस है। यह एक तरह से यूपी का सबसे बड़ा रेडलाइट इलाका है। इसी तरह यहां स्थित दालमंडी इलाका भी तमाम तरह के कानूनी पाबंदियों के बाद भी आज भी चल रहा है। यहां की तंग गलियों में घर के बाहर खड़ी लड़कियां ग्राहकों को उसी पारंपरिक तरीके से रिझाती नजर आती हैं, जैसे एक समय यहां चलने वाले कोठे में पारं‍परिक रूप से चलन में था।

जीबी रोड दिल्‍ली

देश की राजधानी दि‍ल्‍ली स्थित जीबी रोड का पूरा नाम गारस्टिन बास्टिन रोड है। यह राजधानी दिल्ली का सबसे बड़ा रेड लाइट एरिया है। हालांकि इसका नाम सन् 1965 में बदल कर स्वामी श्रद्धानंद मार्ग कर दिया गया। इस इलाके का भी अपना इतिहास है। बताया जाता है कि यहां मुगलकाल में कुल पांच रेडलाइट एरिया यानी कोठे हुआ करते थे। अंग्रेजों के समय इन पांचों क्षेत्रों को एक साथ कर दिया गया और उसी समय इसका नाम जीबी रोड पड़ा। जानकारों के मुताबिक देहव्यापार का यहां सबसे बड़ा कारोबार होता है, और यहां नेपाल और बांग्लादेश से बड़ी संख्या में लड़कियों की तस्करी करके यहां को कोठों पर लाया जाता है। वर्तमान में एक ही कमरे में कई केबिन बनें हैं, जहां एक साथ कई ग्राहकों को सेवा दी जाती है।

मुंबई कमाठीपुरा

भारत की माया नगरी फिल्‍मों और बिजनेस का शहर मुंबई का एक इलाका कमाठीपुरा दुनिया का सबसे बड़ा रेडलाइट एरिया माना जाता है। बताया जाता है कि यह एशिया का सबसे पुराना रेडलाइट एरिया है। बताया जाता है कि इस इलाके में निर्माण क्षेत्र में काम करने वाली आंध्रा महिलाओं ने यहां देह व्यापार का धंधा शुरू किया था और कुछ ही सालों, यानी की 1880 में यह क्षेत्र अंग्रेजों के लिए ऐशगाह बन गया। कमाल की बात यह है कि आज भी यह देहव्यापार के लिए इस क्षेत्र को पूरे देश में बखूबी जाना जाता है। एक अनुमान के मुताबिक यहां तकरीबन 2 लाख सेक्स वर्कर का परिवार रहता है, जो पूरे मध्य एशिया में सबसे बड़ा है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password