Nemawar Hatyakand Dewas : सीएम बोले,सजा दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे, आरोपियों को फांसी देने की उठी मांग

Nemawar Hatyakand Dewas

देवास। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान Nemawar Hatyakand Dewas ने निर्देश दिए हैं कि प्रदेश में कानून व्यवस्था चाकचौबंद होनी चाहिए। अपराधी तत्वों के मन में शासन का खौफ होना चाहिए तथा जनता के मन में पूरा विश्वास। मध्यप्रदेश शांति का टापू है, यहाँ किसी भी असामाजिक तथा आपराधिक तत्व के लिए कोई स्थान नहीं है।

कड़ी सजा दी जाएगी
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि नेमावर हत्याकांड Nemawar Hatyakand जघन्यतम है। आरोपियों को पकड़ लिया गया है तथा फास्ट ट्रेक कोर्ट में उनके विरूद्ध मुकादमा चलाकर दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी।

ये रहे उपस्थित
मुख्यमंत्री चौहान अपने निवास पर कानून व्यवस्था के संबंध में उच्च स्तरीय बैठक ली। बैठक में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी विवेक जौहरी सहित सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

कठोरतम सजा दिलाई जाएगी
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कनेमावर की घटना से मैं अत्यंत आहत हूँ। जिन्होंने यह अपराध किया है वे नराधम हैं, उन्हें बिल्कुल नहीं बख्शा जाएगा तथा कठोरतम सजा दिलाई जाएगी।

 

हरसंभव मदद दी जाएगी
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सरकार पीड़ित परिवार के साथ पूर्ण रूप से खड़ी है। परिजनों को 41 लाख 25 हजार रूपए की सहायता दी गई है तथा आगे भी हरसंभव मदद दी जाएगी।

ये है मामला
मध्य प्रदेश के नेमावर Nemawar Hatyakand news today में एक खेत से आदिवासी परिवार के 5 सदस्यों के नरकंकाल मिलने के बाद आरोपियों को फांसी देने की मांग जोर पकड़ने लगी है। शुक्रवार सुबह से ही ट्विटर पर #नेमावर_हत्यारों_को_फाँसी_दो ट्रेंड कर रहा है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले की सुनवाई होगी और आरोपियों को सख्त से सख्त सजा दी जाएगी।

जरूर पढ़ें: MP News: देवास में मिले 5 नरकंकाल,शवों को गलाने के लिए किया गया था यूरिया और नमक का प्रयोग

गौरतलब है कि देवास जिले के नेमावर Nemawar Hatyakand Dewas news में एक खेत से आदिवासी परिवार के पांच लोगों के नरकंकाल मंगलवार को मिले थे। शवों को खेत में 8-10 पीट गड्ढा कर दफनाया गया था। पुलिस के मुताबिक परिवार के पांचों सदस्य पिछले 48 दिनों से लापता थे। जिन लोगों के नरकंकाल मिले, उनमें चार महिलाएं और एक बच्चा शामिल है। ये सभी 13 मई की रात को अपने घर से बिना बताए गायब हो गए थे।

पुलिस ने खुलासा के बाद 7 लोगों को हिरासत में लिया था। इनमें से 3 आरोपी फिलहाल पुलिस की रिमांड पर हैं। मुख्य आरोपी सुरेन्द्र चौहान,करण कोरकू और राकेश निमोरे क पुलिस की रिमांड में हैं। बाकी 4 आरोपियों वीरेन्द्र सिंह चौहान, विवेक तिवारी,मनोज कोरकू,राजकुमार कीर को जेल भेजा गया है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password