Narayan Rane: उद्धव ठाकरे को ‘थप्पड़’ मारने वाली टिप्पणी पर केंद्रीय मंत्री राणे गिरफ्तार, जानिए पूरा मामला…

Narayan Rane

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के Narayan Raneबारे में विवादित टिप्पणी के कारण राजनीतिक घमासान शुरू होने और राज्य में व्यापक विरोध प्रदर्शन के बाद केंद्रीय मंत्री नारायण राणे को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया गया। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि राणे को रत्नागिरि जिले में पुलिस ने हिरासत में लिया, जहां वह ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ के तहत दौरे पर थे।

अधिकारी ने बताया कि, हिरासत में लेने के बाद राणे को संगमेश्वर थाना ले जाया गया। शिवसेना की नासिक शहर इकाई के प्रमुख द्वारा वहां साइबर थाने में शिकायत दर्ज कराई गई, जिसके बाद राणे के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 500 (मानहानि), 505 (2) (शरारत), 153-बी (1) Narayan Rane (सी) (टिप्पणी से वैमनस्य, या शत्रुता या घृणा या द्वेष की भावना पैदा होने की आशंका) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई।

ऐसी खबरें आयी हैं कि, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता राणे ने उच्च रक्तचाप और ‘शुगर लेवल’ Narayan Rane बढ़ने की शिकायत की तथा उनकी जांच के लिए एक डॉक्टर को बुलाया गया। राणे ने दावा किया था कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अपने संबोधन में ठाकरे यह भूल गए कि देश की आजादी को कितने साल हुए हैं।

राणे ने रायगढ़ जिले में सोमवार Narayan Rane को ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ के दौरान कहा, ‘‘यह शर्मनाक है कि मुख्यमंत्री को यह नहीं पता कि आजादी को कितने साल हो गए हैं। भाषण के दौरान वह पीछे मुड़कर इस बारे में पूछते नजर आए थे। अगर मैं वहां होता तो उन्हें एक जोरदार थप्पड़ मारता।’’

राणे अपनी इस टिप्पणी के बाद विवादों में घिर गए और शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने राज्य के कई शहरों में विरोध प्रदर्शन किया है। इससे पहले, राणे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के खिलाफ दिए गए अपने कथित बयान का मंगलवार को बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने ऐसी टिप्पणी कर कोई अपराध नहीं किया है।

गिरफ्तारी से पहले- मामले में उनकी गिरफ्तारी की खबरों पर राणे ने कहा कि वह कोई ‘‘आम’’ आदमी नहीं हैं और इस तरह की खबरों के खिलाफ उन्होंने मीडिया को आगाह किया। राणे ने कहा, ‘‘मैंने कोई अपराध नहीं किया है। आप खबरों का सत्यापन कर उन्हें टीवी पर दिखाएं Narayan Rane नहीं तो मैं आपके (मीडिया के) खिलाफ मामला दर्ज कराऊंगा। कोई अपराध ना करने के बावजूद मीडिया में मेरी ‘‘आसन्न’’ गिरफ्तारी की अटकलें लगाई जा रही हैं। आपको क्या लगता है कि मैं कोई आम आदमी हूं?’’ ठाकरे के खिलाफ राणे के बयान की शिवसेना ने कड़ी निंदा की है।

पार्टी कार्यकर्ताओं ने मुंबई और कई अन्य स्थानों पर पोस्टर लगाए हैं, जिसमें राणे को ‘कोम्बडी चोर’ (मुर्गी चोर) बताया गया है। गौरतलब है कि करीब पांच दशक पहले चेंबूर में राणे ‘पॉल्ट्री’ की दुकान चलाते थे। शिवसेना और उसकी युवा शाखा के कार्यकर्ताओं ने राणे के खिलाफ महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों में विरोध प्रदर्शन किया। पुणे के दक्कन जिमखाना इलाके में शिवसेना कार्यकर्ताओं ने राणे के पोस्टर पर जूते और थप्पड़ मारे। हडपसर में युवा सेना के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पुणे में जेएम रोड स्थित एक मॉल में पत्थर फेंका गया। पूर्वी महाराष्ट्र के अमरावती शहर में शिवसेना कार्यकर्ताओं ने राणे की टिप्पणी के विरोध में राजापेठ इलाके में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कार्यालय में तोड़फोड़ की और कार्यालय Narayan Rane के सामने लगे विभिन्न पोस्टरों में आग लगा दी। घटना के समय कार्यालय में भाजपा का कोई भी पदाधिकारी या कार्यकर्ता मौजूद नहीं था। शिवसेना कार्यकर्ताओं ने कार्यालय के बाहर लगे पोस्टरों पर पेट्रोल उड़ेल दिया और उनमें आग लगा दी। उन्होंने कार्यालय पर पथराव भी किया। मुंबई में राणे के आवास के बाहर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

भाजपा कार्यकर्ता सुबह से ही मंत्री के समर्थन में उनके सांताक्रूज (पश्चिम) में जुहू तारा रोड स्थित आवास के बाहर एकत्र हो गए। वहीं, महिलाओं सहित शिवसेना के कार्यकर्ता राणे के खिलाफ तख्तियां लिए और नारेबाजी करते हुए, जुहू स्थित युवा सेना (पार्टी की युवा शाखा) के एक कार्यालय के बाहर जमा हो गए। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए महिला पुलिस कर्मियों सहित भारी पुलिस बल राणे के आवास के बाहर तैनात किया गया है।

भाजपा की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने राणे के ठाकरे को थप्पड़ मारने संबंधी बयान से खुद को अलग कर लिया, लेकिन साथ ही कहा कि वह मंत्री के बयान पर खेद प्रकट नहीं करेंगे। पाटिल ने एक क्षेत्रीय समाचार चैनल से कहा, ‘‘मैं राणे के बयान का Narayan Rane बचाव नहीं कर रहा, लेकिन उसको लेकर खेद भी व्यक्त नहीं करूंगा।’’ विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि भाजपा राणे की टिप्पणियों का समर्थन नहीं करती है, लेकिन ‘‘पार्टी पूरी एकजुटता से उनके साथ खड़ी है।’’

यह आरोप लगाते हुए कि राज्य पुलिस बल का ‘‘प्रतिशोध की राजनीति’’ के लिए एक औजार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है, पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून और व्यवस्था सुनिश्चित होनी चाहिए न कि ‘‘तालिबान जैसी शासन।’’ केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने राणे का बचाव करते हुए कहा कि मंत्री का इरादा Narayan Rane मुख्यमंत्री का अपमान करने का नहीं था और वह अपने बयान पर स्पष्टीकरण देंगे।

केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री आठवले ने पत्रकारों से कहा, ‘‘राणे के कहने का मतलब केवल इतना था कि ठाकरे महाराष्ट्र के विकास के लिए कुछ नहीं कर रहे हैं और लोगों की समस्याओं को समझने के लिए वह मुंबई में अपने आवास ‘मातोश्री’ से कभी-कभार ही बाहर निकलते हैं। राणे का मतलब था कि ऐसे मुख्यमंत्री को पद पर बने रहने का अधिकार नहीं है। वह यही कहना चाहते थे।’’

शिवसेना के सांसद विनायक राउत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर केन्द्रीय मंत्री नारायण राणे Narayan Rane को केंद्रीय मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग की है। बयान के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद नासिक के पुलिस आयुक्त दीपक पांडे ने राणे की तत्काल गिरफ्तारी के आदेश जारी किए थे, जिसके बाद सिटी पुलिस की एक टीम कोंकण क्षेत्र के लिए गयी।

राणे ने ठाकरे के खिलाफ अपनी टिप्पणी को लेकर दर्ज Narayan Rane प्राथमिकियों को चुनौती देते हुए बंबई उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर गिरफ्तारी से संरक्षण का अनुरोध किया। अधिवक्ता अनिकेत निकम के माध्यम से दाखिल राणे की याचिका में प्राथमिकी रद्द करने के लिए निर्देश देने का आग्रह किया गया। राणे ने गिरफ्तारी या किसी दंडात्मक कार्रवाई से सुरक्षा प्रदान करने के लिए अंतरिम आदेश का भी अनुरोध किया।

न्यायमूर्ति एस एस शिंदे और न्यायमूर्ति एन जे जमादार की पीठ के समक्ष दाखिल याचिका में मंगलवार को ही Narayan Rane तत्काल सुनवाई की मांग की गई। हालांकि, पीठ ने इस पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया और कहा कि (याचिका का) उल्लेख करने की अनुमति नहीं है। पीठ ने कहा कि वकील को प्रक्रिया का पालन करना होगा।

अदालत ने कहा, ‘‘रजिस्ट्री विभाग के समक्ष तत्काल सुनवाई के लिए एक अर्जी दाखिल करें और फिर Narayan Rane हम विचार करेंगे।’’ याचिका में राणे के खिलाफ पुणे, नासिक और रायगढ़ के महाड में दर्ज प्राथमिकियों को चुनौती दी गई है। अदालत ने कहा, ‘‘सभी को प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। हमसे रजिस्ट्री का काम न कराएं।’’ रत्नागिरि की एक अदालत ने भी राणे की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी। भा

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password