Mann Ki Baat: मन की बात में बोले पीएम मोदी- कृषि कानूनों से किसानों को नए अधिकार और अवसर मिले

Image Source: [email protected] News

PM Modi Mann Ki Baat: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित किया हैं। अपने इस रेडियो कार्यक्रम के जरिए प्रधानमंत्री ने देशवासियों के साथ अपने विचार साझा करते हुए किसानों से लेकर सांस्कृतिक विरासतों तक की बात की। पीएम मोदी ने कहा, काफी विचार-विमर्श के बाद भारत की संसद ने कृषि सुधारों को कानूनी स्वरूप दिया। इन सुधारों से न सिर्फ किसानों के अनेक बन्धन समाप्त हुए हैं, बल्कि उन्हें नये अधिकार और नये अवसर भी मिले है।

पीएम ने कहा, मेरा नौजवानों, विशेषकर कृषि की पढ़ाई कर रहे लाखों विद्यार्थियों से आग्रह है कि, वो अपने आस-पास के गावों में जाकर किसानों को आधुनिक कृषि के बारे में, हाल में हुए कृषि सुधारो के बारे में जागरूक करें। ऐसा करके आप देश में हो रहे बड़े बदलाव के सहभागी बनेंगे।

पीएम मोदी ने रविवार को ‘मन की बात’ की शुरुआत में कनाडा से लगभग 100 साल पुरानी देवी अन्नपूर्णा की प्रतिमा वापस आने की खुशखबरी को साझा किया। PM ने कहा, हर भारतीय को यह जानकर गर्व होगा कि देवी अन्नपूर्णा की एक बहुत पुरानी प्रतिमा कनाडा से वापस भारत आ रही है। यह प्रतिमा लगभग 100 साल पहले 1913 के करीब वाराणसी के एक मंदिर से चुराकर देश से बाहर भेज दी गयी थी। माता अन्नपूर्णा का काशी से बहुत ही विशेष संबंध है। उनकी प्रतिमा का वापस आना हम सभी के लिए सुखद है। हमारी विरासत की अनेक अनमोल धरोहरें अंतर्राष्ट्रीय गिरोहों का शिकार होती रही हैं, अब इन पर सख्ती तो लगाई ही जा रही है, इनकी वापसी के लिए भारत ने अपने प्रयास भी बढ़ाए हैं।

प्रधानमंत्री ने भारत की सांस्कृतिक विरासतों को सुरक्षित करने और विदेश से वापस लाए जाने के प्रयासों की जानकारी देते हुए कहा, भारत की संस्कृति और शास्त्र, हमेशा से ही पूरी दुनिया के लिए आकर्षण के केंद्र रहे हैं। कई लोग इनकी खोज में भारत आए और हमेशा के लिए यहीं के होकर रह गए, तो कई लोग वापस अपने देश जाकर इस संस्कृति के संवाहक बन गए।

कोरोना का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा, लॉकडाउन के दौर से बाहर निकलकर अब वैक्सीन पर चर्चा होने लगी है, लेकिन कोरोना को लेकर किसी भी तरह की लापरवाही अब भी बहुत घातक है। हमें कोरोना के खिलाफ अपनी लड़ाई को मजबूती से जारी रखना है।

प्रधानमंत्री ने ‘मन की बात’ में कहा…

  • 5 दिसम्बर को श्री अरबिंदो की पुण्यतिथि है। श्री अरबिंदो को हम जितना पढ़ते हैं, उतनी ही गहराई, हमें, मिलती जाती है। युवा साथी श्री अरबिंदो को जितना जानेंगे, उतना ही अपने आप को जानेंगे, खुद को समृद्ध करेंगे। श्री अरबिन्दो कहते थे स्वदेशी का अर्थ है कि हम अपने भारतीय कामगारों, कारीगरों की बनाई हुई चीजों को प्राथमिकता दें।
  • कल 30 नवंबर को हम श्री गुरु नानक देव जी का 551वां प्रकाश पर्व मनाएंगे। पूरी दुनिया में गुरु नानक देव जी का प्रभाव स्पष्ट रूप से दिखाई देता है। मुझे महसूस होता है कि गुरु साहब की मुझ पर विशेष कृपा रही जो उन्होंने मुझे हमेशा अपने कार्यों में बहुत करीब से जोड़ा है।
  • पिछले साल नवंबर में करतारपुर साहिब कॉरिडोर का खुलना बहुत ही ऐतिहासिक रहा। विदेश में रहने वाले हमारे सिख भाई-बहनों के​ लिए अब दरबार साहिब की सेवा के लिए राशि भेजना और आसान हो गया है। इस कदम से विश्वभर की संगत, दरबार साहिब के और करीब आ गई है।
  • 6 दिसंबर को बाबा साहब अम्बेडकर की पुण्य-तिथि भी है। ये दिन बाबा साहब को श्रद्धांजलि देने के साथ ही देश के प्रति अपने संकल्पों, संविधान ने, एक नागरिक के तौर पर अपने कर्तव्य को निभाने की जो सीख हमें दी है, उसे दोहराने का है।

बता दें कि, मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात का यह 71वां संस्करण है, जबकि मन की बात 2.0 का यह 18वां संस्करण (18th edition of Mann Ki Baat 2.0) है। इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने 25 अक्टूबर को ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए लोगों को संबोधित किया था।

 

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password