ममता ने नंदीग्राम में शुभेंदु अधिकारी को चुनौती देने का किया ऐलान

नंदीग्राम (पश्चिम बंगाल), 18 जनवरी (भाषा) पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदी दिग्गज शुभेंदु अधिकारी को चुनौती देते हुए सोमवार को ऐलान किया कि वह उनके गढ नंदीग्राम से आगामी विधानसभा चुनाव लड़ेंगी। अधिकारी हाल ही में तृणमूल छोड़कर भाजपा में शामिल हो गये थे।

बनर्जी ने इस बड़ी घोषणा के लिए नंदीग्राम को चुना जो भाजपा से दो-दो हाथ करने के तृणमूल कांग्रेस प्रमुख के संकल्प का परिचायक है। भाजपा राज्य में एक दशक से राज कर रही तृणमूल को सत्ता से उखाड़ फेंकने की जी-तोड़ कोशिश में जुटी है।

मुख्यमंत्री ने यहां एक रैली में कहा कि दूसरे दलों में जाने वालों को लेकर उन्हें कोई चिंता नहीं क्योंकि जब तृणमूल कांग्रेस बनी थी, तब उनमें से शायद ही कोई साथ था।

उन्होंने कहा कि इन नेताओं ने पिछले कुछ सालों के दौरान ‘अपने द्वारा लुटे गये’ धन को बचाने के लिए पार्टी (तृणमूल कांग्रेस) छोड़ी।

बनर्जी ने कहा, ‘‘ मैंने हमेशा से नंदीग्राम से विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान की शुरुआत की है। यह मेरे लिए भाग्यशाली स्थान है। इस बार,मुझे लगा कि यहां से विधानसभा चुनाव लड़ना चाहिए। मैं प्रदेश पार्टी अध्यक्ष सुब्रत बख्शी से इस सीट से मेरा नाम मंजूर करने का अनुरोध करती हूं।’’

मंच पर मौजूद बख्शी ने तुरंत अनुरोध स्वीकार कर लिया।

नंदीग्राम विशेष आर्थिक क्षेत्र के निर्माण के लिए तत्कालीन वाम मोर्चा सरकार के ‘जबरन’ ‘जमीन अधिग्रहण के विरूद्ध विशाल जनांदोलन का केंद्र था। लंबे समय तक चले और अक्सर रक्तरंजित रहे इस आंदोलन के चलते ही बनर्जी और उनकी पार्टी उभरी एवं 2011 में तृणमूल कांग्रेस सत्ता में पहुंचीं। इसी के साथ 34 साल से जारी वाम शासन पर पूर्ण विराम लगा था।

अधिकारी नंदीग्राम आंदोलन का चेहरा समझे जाते हैं।

हालांकि पाला बदलकर भाजपा से हाथ मिला चुके अधिकारी ने अक्सर बनर्जी पर आरोप लगाया कि जिस क्षेत्र ने बनर्जी को सत्ता दिलाने में मदद पहुंचायी, उस क्षेत्र के लोगों को उन्होंने भुला दिया।

बनर्जी फिलहाल दक्षिण कोलकाता के भवानीपुर से विधायक हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ यदि संभव हुआ तो मैं भवानीपुर और नंदीग्राम दोनों जगहों से चुनाव लडूंगी। नंदीग्राम मेरी बड़ी बहन है और भवानीपुर मेरी छोटी बहन। यदि मैं भवानीपुर से चुनाव नहीं लड़ पायी तो मैं वहां से कोई और मजबूत उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारूंगी।’’

उन्होंने कहा कि वह ‘कुछ लोगों ’ को बंगाल को कभी भाजपा के हाथों नहीं बेचने देंगी।

उन्होंने कहा, ‘‘जो पार्टी से चले गये, उन्हें मेरी शुभकामनाएं हैं। उन्हें देश का राष्ट्रपति एवं उपराष्ट्रपति बनने दीजिए। लेकिन आप बंगाल को भाजपा के हाथों बेचने का दुस्साहस नहीं करें। जब तक मैं जिंदा हूं, मैं उन्हें अपने राज्य को भाजपा के हाथों नहीं बिकने दूंगी।’’

तृणमूल सूत्रों ने बताया कि बनर्जी के ऐलान से पूर्वी और पश्चिमी मिदनापुर जिलों एवं आसपास के क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं को एकजुट करेगा जो अधिकारी के पार्टी छोड़ देने के बाद बिना पतवार के नाव जैसा महसूस कर रहे हैं।

अधिकारी का जिक्र किये बगैर बनर्जी ने कहा कि राज्य जीतने का सपने देखने से पहले उन्हें स्थानीय तृणमूल नेताओं से संघर्ष करना होगा।

उन्होंने वाममोर्चा सरकार के दौरान जबरन जमीन अधिग्रहण के विरूद्ध नंदीग्राम और सिंगूर में अपने नेतृत्व में छेड़े गये आंदोलन को याद करते हुए कहा कि भाजपा दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के प्रदर्शन को कमतर आंककर वही भूल कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ माकपा ने किसानों की जमीन छीनने का प्रयास किया था । भाजपा किसानों का फसल छीनन का प्रयत्न कर रही है।’’

प्रतिद्वंद्वी दलों के नेताओं को पार्टी में शामिल करने पर भाजपा पर निशाना साधते हुए बनर्जी ने कहा, ‘‘ भाजपा देश में सबसे बड़ी कबाड़ पार्टी है। भाजपा कोई राजनीतिक दल नहीं है बल्कि वाशिंग पाउडर है… वह तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को अपने में शामिल करने के वास्ते पैसे और धमकियों का इस्तेमाल कर रही हैं।’’

अपनी पार्टी के दल-बदल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा भले ही कुछ नेताओं को खरीद ले लेकिन वह बंगाल के लोगों को खरीद नहीं सकती। उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस लगातार तीसरी बार जीतकर सत्ता में आयेगी और भाजपा का सफाया हो जाएगा।

राज्य में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं।

भाषा

राजकुमार उमा

उमा

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password