Kerala Assembly: आज से 15वीं विधानसभा का पहला सत्र हुआ शुरू, नए विधायकों को दिलाई गई शपथ

तिरुवनंतपुरम। (भाषा) कोविड-19 संबंधी प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करते हुए केरल की 15वीं विधानसभा का पहला सत्र यहां सोमवार को आरंभ हो गया और इस दौरान नवनिर्वाचित विधायकों ने शपथ ग्रहण की। राज्यों में 53 विधायक ऐसे हैं जो पहली बार विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए हैं। सोमवार सुबह नौ बजे शुरू हुई सदन की कार्यवाही तीन घंटे से अधिक समय तक चली और इस दौरान 140 सदस्यीय सदन के 136 विधायकों ने शपथ ग्रहण की। तीन विधायक- के बाबू (नेंमारा), एम विंसेट (कोवलम) और वी अब्दुर्रहमान (तानुर) स्वास्थ्य कारणों से सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं हो सके।

नए मंत्रिमंडल में ये बड़े नेता हुए शामिल 

अब्दुर्रहमान खेल मंत्री भी हैं। कुन्नमंगलम से विधायक एवं प्रोटेम अध्यक्ष पीटीए रहीम ने पिछले सप्ताह राजभवन में राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान के समक्ष पहले ही शपथ ग्रहण कर ली थी। विधायकों का नाम वर्ण क्रम के अनुसार बुलाया गया और उन्हें रहीम ने शपथ ग्रहण कराई। सबसे पहले इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के नेता अब्दुल हमीद मास्टर ने शपथ ग्रहण की, जो सदन में वल्लिक्कुन्नू निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। वडक्कनचेरी से मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) विधायक जेवियर चित्तिलापिल्ली ने सबसे आखिर में शपथ ग्रहण की।

पिनराई विजयन ने सत्यनिष्ठा की शपथ ली

पिछले चार दशक में लगातार दूसरी बार पदभार ग्रहण कर सदन के इतिहास में अपना नाम दर्ज करा चुके मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने सत्यनिष्ठा की शपथ ली, जबकि उनके कुछ कैबिनेट सहयोगियों ने ईश्वर के नाम पर शपथ ग्रहण की। विजयन का आज जन्मदिन भी है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के सुरेंद्रन को हराने वाले मंजेश्वरम से विधायक एकेएम अशरफ ने कन्नड़ में शपथ ग्रहण करके सबका ध्यान आकर्षित किया।अधिकतर विधायकों ने अपनी मातृभाषा मलयालम में शपथ ग्रहण की, जबकि कुछ विधायकों ने अंग्रेजी में शपथ ली।

वी डी सतीशन को विपक्ष का नेता बनाया

वडकारा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाली रेवोल्यूशनरी मार्क्सिस्ट पार्टी (आरएमपी) नेता के के रेमा अपने दिवंगत पति टीपी चंद्रशेखरन की तस्वीर वाला बैज लगाकर पहुंचीं। चंद्रशेखरन की राजनीतिक गुडों ने हत्या कर दी थी। विजयन और उनके दामाद पी ए मोहम्मद रियास को सदन में साथ देखना दिलचस्प रहा। रियास पीडब्ल्यूडी और पर्यटन मंत्री भी हैं। विपक्षी कांग्रेस नीत यूडीएफ में बड़ा बदलाव देखने को मिला और रमेश चेन्नीतला की जगह वी डी सतीशन को विपक्ष का नेता बनाया गया।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password