Interesting Fact: कंप्यूटर में हार्ड ड्राइव C से क्यों शुरू होता है, A या B से क्यों नहीं?

hard disk

नई दिल्ली। आज के समय में कंप्यूटर का उपयोग हम सब करते है। चाहे ऑफिस में करें या स्कूल कॉलेज में सभी PC में एक हार्ड ड्राइव होती है। जिसमें हमारा डाटा सेव होता है। इस हार्ड ड्राइव को कई भागों में बांटा जाता है। जैसे C ड्राइव, D ड्राइव, F ड्राइव आदि । लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि इसकी शुरूआत C से ही क्यों होती है। A या B से क्यों नहीं?

कंप्यूटर कई मानी परिपाटियों पर चलता है

यह सवाल आपके मन में कभी न कभी आया होगा, तो आइए आज हम आपको बताते हैं कि इसके पीछे क्या कारण है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कंप्यूटर विज्ञान कई सारी मानी हुई परिपाटियों पर चलता है जैसे कि कंप्यूटर की गिनती एक के बजाय शून्य से शुरू होती है। कंप्यूटर युग की शुरुआत में जब डेस्कटॉप पीसी आना शुरू हुए थे तब उनमें सिर्फ एक फ्लॉपी ड्राइव हुआ करती थी जिसका नाम ए ड्राइव होता था। दो फ्लॉपी ड्राइव वाले पीसी pc-xt कहलाते थे और हार्ड डिस्क वाले पीसी, PCAT कहलाते थे।

इस कारण से हार्ड ड्राइव C से शुरू होती थी

तो ड्राइव्स के नाम ABCD इस प्रकार से हुए। A और B ड्राइव फ्लॉपी ड्राइव होती थी और हार्ड डिस्क ड्राइव C से शुरू होती थी। आजकल फ्लॉपी ड्राइव की आवश्यकता नहीं होती है परंतु हार्ड डिस्क का अनुक्रम C से ही चालू होता है। तो पहली हार्ड डिस्क C और दूसरी D, इस प्रकार के क्रम में देखने को मिलती है। बतादें कि पहले कंप्यूटर के लिए दो तरह के प्लॉपी डिस्क का इजाद हुआ था एक 51/4 इंच और दूसरा 31/2 इंच। इन दोनों प्लॉपी डिस्क को रन करने के लिए जो दो ड्राइव का उपयोग होता था उन्हें ही ड्राइव ए और ड्राइव बी कहा जाता था।

कंप्यूटर में हार्डड्राइव का चलन

मालूम हो कि कंप्यूटर में हार्डड्राइव का चलन बहुत पुराना नहीं है। 1980 के बाद यह चलन में आया। आसान स्टोरेज, इनबिल्ट सुविधा और डाटा नष्ट होने का कम खतरा होने की वजह से जल्द ही हार्डड्राइव प्रचलित हो गया। तीसरे श्रेणी के इस ड्राइव को कंप्यूटर में सी ड्राइव कहा गया। हाईड्राइव के सी ड्राइव में कंप्यूटर का ऑपरेटिंग सिस्टम इंस्टॉल किया जाता है। पहले कंप्यूटर को रन करने के लिए भी फ्लॉपी डिस्क की आवश्यकता होती थी। ऑपरेटिंग सिस्टम फ्लॉपी डिस्क में स्टोर होता था और इसे लगाने के बाद ही कंप्यूटर आगे का कार्य करता था। परंतु हार्ड ड्राइव ने फ्लॉपी डिस्क को चलन से बाहर कर दिया है। अब कंप्यूटर में सिर्फ सी ड्राइव बचा है।

आप अपने मन मुताबिक इसे A या B ड्राइव भी बना सकते हैं

हार्ड ड्राइव को अलग-अलग पार्टिशन किया जाता और इस को डी और ई ड्राइव कहा जाता है। वहीं यदि आप बाहर से यदि किसी यूएसबी ड्राइव का उपयोग करते हैं तो उसे आपका कंप्यूटर एफ और जी डिवाइस दिखाता है। हालांकि हार्ड ड्राइव के लिए यह मानक सेट नहीं है कि ऑपरेटिंग सिस्टम सी में ही इंस्टॉल होगा। या हार्ड ड्राइव को ए या बी ड्राइव नहीं कहा जा सकता। यदि आपके पास पीसी का एडमिनिस्ट्रेटिव राइट है तो आप सी ड्राइव को ए या बी ड्राइव भी बना सकते हैं।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password