औपचारिक रूप में भारतीय वायु सेना में शामिल 'राफेल', ये खूबियां बनाती हैं खास



औपचारिक रूप में भारतीय वायु सेना में शामिल ‘राफेल’, ये खूबियां बनाती हैं खास

PIC-ANI

अंबाला: भारत-चीन बॉर्डर तनाव के बीच आज सर्वधर्म यानी हिंदू, मुस्लिम, सिख और इसाई धर्म के अनुसार पूजा करने के बाद औपचारिक रूप से लड़ाकू विमान राफेल भारतीय वायुसेना में शामिल हुआ। राफेल को अंबाला एयरबेस पर 17 स्कवॉड्रन ‘गोल्डन ऐरोज़’ में शामिल किया गया है। इस दौरान रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस की रक्षामंत्री फ्लोंरेस पार्ले इसके साक्षी बने। राफेल के भारतीय वायुसेना में शामिल होने के बाद इसे दुश्मनों के खिलाफ बड़ी बढ़त के तौर पर देखा जा रहा है।

 

राफेल की खूबियां

राफेल में ऐसी कई खूबियां हैं, जो उसे अन्य दूसरे लड़ाकू विमानों से बेहतर बनाती हैं। ऐसा 18 वर्षों बाद हो रहा है, जब भारतीय वायुसेना में कोई विदेशी लड़ाकू विमान शामिल किया गया है।

1- राफेल हवा से जमीन पर मार करने के साथ-साथ हवा से हवा में लक्ष्य पर सटीक निशाना साधने में अचूक है। राफेल परमाणु हमले, एंटी शिप अटैक, टोही क्षमता, क्लोज एयर सपोर्ट, एयर डिफेंस और लेजर निर्देशित लंबी दूरी की मिसाइल के हमले में भी सक्षम है।

 

2- राफेल 150 किलोमीटर दूर से ही हवा से हवा में मार करने और लक्ष्य को भेदने की क्षमता रखते हैं, वहीं यह बिना बॉर्डर पार किए भी दुश्मन के इलाके में 300 किलोमीटर तक लक्ष्य को सुरक्षित भेद सकते हैं।

3- राफेल अत्याधुनिक हथियारों से लैस है, यह एक प्लेन के साथ मेटेअर मिसाइल भी है। इसकी फ्यूल क्षमता- 17,000 किलोग्राम किलोग्राम है।

4- राफेल विमान में एक साथ कई घातक हथियार संभाल सकता हैं। यह विमान एक साथ 24,500 किलोग्राम तक का वजन ले जाने में भी सक्षम है।

 

5- राफेल की कई खूबियों में से एक खूबी ये भी है कि यह बॉर्डर पार किए बिना ही बालाकोट जैसी स्ट्राइक को अंजाम दे सकता है। राफेल की एक सबसे बड़ी खूबी यह है कि यह एक मल्टीरोल एयरक्राफ्ट है।

6- राफेल लड़ाकू विमान में कई घातक मिसाइलें शामिल हैं। इसमें यूरोपियन मिसाइल बनाने वाली कंपनी MBDA की मीटियॉर मिसाइल है, जो 150 किलोमीटरतक हवा से हवा में मार करने में सक्षम मिसाइल है।

Share This

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password