Miscarriage news : 5 बड़े कारण, जिससे हो सकता है गर्भपात!

नई दिल्ली। मां बनने का अहसास (causes of miscarriage)महिला की जिंदगी का सबसे खूबसूरत पल होता है। यह एक ऐसा मौका होता है जो परिवार के सभी सदस्यों को एक माला में पिरो देता है। इसे लेकर सभी अपने—अपने सपने बुनने लगते हैं। लेकिन इसी बीच यदि किसी कारणवश महिला का गर्भपात ​हो जाए तो यह स्थिति उसे एक बहुत बड़ा सदमा साबित होती है।
मानसिक रूप से यह उसे कई तकलीफों का अहसास कराती है। चिकित्सकों की माने तो इसके पीछे कोई एक कारण काम नहीं करता। बहुत सी ऐसी वजहें हैं तो इसके लिए जिम्मेदार हैं। इनके प्रति सावधानी रखना जरूरी होता है।

जानते हैं क्या हैं वे कारण —

थायरॉयड हो सकता है वजह :
चिकित्सकों के अनुसार थायरॉयड आम समस्या हो गई है। महिलाएं ही सबसे ज्यादा इस समस्या से प्रभावित हैं। आमतौर पर उनके द्वारा इसे सामान्य माना जाता है। लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान थायरॉयड होने पर आपको बहुत सतर्क रहने की जरूरत है। यह एक हार्मोन से जुड़ी समस्या है। यदि प्रेगनेंसी के दौरान आपको थायरॉयड हो जाता है तो डॉक्टर की सलाह लेती रहें। क्योंकि ये कई बार गर्भपात का कारण बन जाता है।

डायबिटीज है तो हो जाएं सावधान :
प्रेगनेंसी के समय कई महिलाओं को जेस्टेशनल डायबिटीज हो जाती है। जिसमें महिलाओं को समय—समय पर विशेषज्ञ से जांच कराते रहनी चाहिए। कई बार यह शुरुआती shugar patent महीनों में ही मिसकैरेज का कारण बन सकती है। इसका सबसे बड़ा दुष्प्रभाव यह भी है कि इसके प्रभाव से कई बार बच्चे एबनोर्मल भी हो जाते हैं।

क्रोमोसोमल असामान्यता भी है एक कारण:
फर्टिलाइजेशन के दौरान स्पर्म और एग दोनों एक परफेक्ट मैच बनाने के लिए 23 क्रोमोसोम इकट्ठे करते हैं। ये एक जटिल प्रक्रिया होती है। इसमें जरा सी गड़बड़ भी क्रोमोसोमल असमान्यता पैदा कर सकती है जो मिसकैरेज का करण बनती है।

हार्मोनल असंतुन पर दें ध्यान :
महिला को अगर पहले से कोई हार्मोनल harmonal disbalance समस्या है। या यूट्रस की लाइनिंग को सपोर्ट करने के लायक प्रोजेस्ट्रॉन हार्मोन उनके शरीर में नहीं बन पा रहा है। जितना जरूरी होता है। तो ऐसी स्थिति में भी मिसकैरेज के चांसेज बढ़ जाते हैं। समय रहते इस परेशानी को दवाओं से नियंत्रित किया जा सकता है।

फाइब्रायड्स भी होता है एक कारण :
महिलाओं में यूटरिन फाइब्रॉयड, यूटरिन डिफेक्ट या ऑटो इम्यून डिसऑर्डर भी कई बार गर्भपात का कारण बनते हैं। ऐसी किसी भी मेडिकल कंडीशन होने पर आपको बहुत सतर्क रहने की आवश्यकता है। साथ ही विशेषज्ञ के निर्देशों का पालन करते हुए अपने आप को सुरक्षित रखें ताकि मिसकैरेज जैसी समस्या से बचा जा सके।

(नोट : यह लेख सामान्य जानकारियों पर आधारित है। इस पर अमल करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह जरूर लें। बंसल न्यूजइसकी पुष्टि नहीं करता।)

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password