रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए जारी गाइडलाइन, अब सिर्फ इन मरीजों को ही दिया जाएगा डोज

भोपाल: मध्य प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण ने लोगों की तकलीफों को और भी ज्यादा बढ़ा दिया है। अस्पतालों और दवा बाजार के चक्कर लगाकर संक्रमितों के परिजन और भी ज्यादा परेशानी में नजर आ रहे हैं। क्योंकि कोरोना मरीजों को दिया जाने वाला रेमडेसिविर इंजेक्शन का स्टॉक मार्केट में खत्म हो चुका है।

दरअसल, प्रदेशभर में कोरोना मरीजों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है तो रेमडेसिविर इंजेकेश्न की डिमांड भी बढ़ रही है। लेकिन भोपाल, इंदौर समेत बड़े शहरों में इंजेक्शन का स्टॉक खत्म हो चुका है। रेमडेसिविर इंजेक्शन के इस्तेमाल को लेकर सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दी है। यह इंजेक्शन अब हर कोरोना मरीज को नहीं दिया जाएगा, बल्कि सिर्फ उन मरीजों को दिया जाएगा जिन्हें इलाज के दौरान हर दिन 5 लीटर से ज्यादा ऑक्सीजन दी जा रही है।

AIIMS ने जारी किया रिवाइज ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल

स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव ने बताया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन का उपयोग सरकारी स्तर पर कभी नहीं किया गया, लेकिन ऑल इंडिया इंस्टीटयूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) दिल्ली ने कोरोना के लिए रिवाइज ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल जारी किया है। इस प्रोटोकॉल के मुताबिक, अब रेमजेसिविर इंजेक्शन का डोज उन मरीजों को दिया जा सकता है जिन्हें 5 लीटर से ज्यादा ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है। अब इसी के आदार पर स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना के इलाज में इस प्रोटोकॉल के तहत इंजेक्शन देने के आदेश जारी किए हैं।

ऑक्सीजन में भी 4 गुना बढ़ी खपत

स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव के मुताबिक कोरोना के केस में वृद्धि होने के साथ ही ऑक्सीजन की खपत 4 गुना बढ़ गई। प्रदेश में 22 मार्च को 64 टन ऑक्सीजन की खपत थी। जो 5 अप्रैल को 131 टन हो गई, लेकिन 10 अप्रैल को यह खपत बढ़कर 254 टन पहुंच गई है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password