चाय के साथ भूलकर भी ना खाएं ये 6 चीजें, वरना आपको घेर लेंगी खतरनाक बीमारियां

भोपाल: हम अपनी डाइट में कई ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं जो कि हमारे स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ हमारी बॉडी को पोषक तत्व भी पहुंचाते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कुछ खाद्य पदार्थों में ऐसे गैर-पोषक तत्व भी होते हैं जो हमारे लिए काफी नुकसानदायक भी हो सकते हैं। इसलिए इस बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि हम ऐसे विटामिन और मिनरल्स को अच्छी तरह से एब्जॉर्ब करने के लिए अपनी डाइट में बदलाव करें, इससे व्यक्ति को कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से बचने में मदद मिलती है। आइए जानते हैं कुछ ऐसी सब्जियों और गैर-पोषक तत्वों के बारे में जो
विटामिन और मिनरल्स के साथ अच्छी तरह से नहीं घुलते-मिलते हैं।

चाय के साथ बिलकुल ना करें प्रोटीन और आयरन का सेवन

चाय का गहरा रंग उसमें पाए जाने वाले टैनिन से होता है। जो हाई कॉन्संट्रेशन में प्रोटीन और आयरन को एब्जॉर्ब करने से रोक सकते हैं। इसलिए टैनिन की मौजूदगी के कारण फलियां और अनाज में पाए जाने वाले उन खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए जो आयरन और प्रोटीन से भरपूर होते हैं।

हरी पत्तेदार सब्जियां

आपको बता दें कि हरी पत्तेदार सब्जियों में पाया जाने वाला गोइट्रोजन थायरॉयड ग्रंथि द्वारा आयोडीन को लेने में रुकावट डालता है और आयोडीन की कमी का कारण बन सकता है। लेकिन इनमें मौजूद गोइट्रोजन को खाना पकाने के दौरान उबालने या ब्लाचिंग के जरिए गोइट्रोजन के लेवल को कम किया जा सकता है।

इन सब्जियों में पाया जाता है गोइट्रोजन गोभी, फूलगोभी, हरे पत्तों, मूली, सरसों, ब्रोकली, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, शलजम और सोयाबीन।

अनाज बढ़ा सकते हैं एनीमिया और जिंक की कमी

अनरिफाइंड सियरिल्स और बाजरा फाइटेट से भरपूर होते हैं, जो बीज के अंकुरण के समय फॉस्फोरस के स्रोत के तौर पर काम करता है। लेकिन यह आयरन, जिंक, कैल्शियम और मैग्नीशियम भी जुड़ा होता है। रिसर्च बताती हैं कि फाइटेट के हाई लेवल से एनीमिया और जिंक की कमी बढ़ सकती है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password