अगस्त में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर! आर-वैल्यू को लेकर भी विशेषज्ञों ने जताई चिंता

r value

नई दिल्ली। देश में एक बार फिर से कोरोना के नए मामले बढ़ने लगे हैं। पिछले सात दिनों के आंकड़े को अगर देखें तो पहले की तुलना में नए मामले ज्यादा मिल रहे हैं, जबकि रिकवरी कम हो रही है। ऐसे में कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना बढ़ गई है। एक शोध में दावा किया गया है कि कोरोना की तीसरी लहर अगस्त में ही आ सकती है। वहीं इस पर दिल्ली एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया का कहना है कि देश में जो नए मामले सामने आ रहे हैं उसमें वायरस की आर-वैल्यू बढ़ रही है, जो देश के लिए चिंता का विषय है। बतादें कि पहले वायरस की R-Value 0.99 थी जो अब बढ़कर 1 हो गई है। ऐसे में जानना जरूरी है कि आखिर कोरोना की आर-वैल्यू क्या होती है?

क्या है आर-वैल्यू?

बतादें कि किसी भी बीमारी के फैलने की दर को री-प्रोडक्शन नंबर यानी आर-वैल्यू कहते हैं। आसान भाषा में इसे समझें तो एक संक्रमित व्यक्ति से औसतन किसने लोग संक्रमित हो सकते हैं, इसे हम ‘आर’ नंबर से हम पता करते हैं। अगर वायरस की आर-वैल्यू एक से ऊपर है तो इसका मतलब हुआ कि कोई संक्रमित व्यक्ति एक से अधिक लोगों को संक्रमित कर सकता है, यानी इस स्थिति में संक्रमण दोगुना से अधिक रफ्तार से फैलता है। वैल्यू अगर 1 से कम है, तो यह कम लोगों तक पहुंचता है।

सीधे-सीधे इसे समझे तो अगर 100 संक्रमित व्यक्ति, 100 अन्य लोगों को भी संक्रमित कर रहा है तो वायरस की आर-वैल्यू 1 होगी। वहीं अगर 100 संक्रमित व्यक्ति, 80 लोगों को संक्रमित कर रहा है तो इसकी आर-वैल्यू 0.80 है।

इसे कम करने के लिए क्या किया जाता है?

कोरोना की आर-वैल्यू को कम करने के लिए ही लॉकडाउन जैसे शख्त कदम उठाए जाते हैं और लोगों को मास्क पहनने, शारीरिक दूरी बनाए रखने जैसे नियमों का पालन करने के लिए कहा जाता है। वर्तमान में देश के कई हिस्सों में फिर से संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं। ऐसे में स्वास्थ्य मंत्रालय ने उन राज्यों को सख्त पाबंदी लगाने के निर्देश दिए हैं जहां पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत से अधिक है।

अगस्त में ही आ सकती है तीसरी लहर

बतादें कि पिछले पांच दिनों से देश में कोरोना के केस 40 हजार के पार आ रहे हैं। इस बीच विशेषज्ञों ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर लोगों को आगाह किया है। उनकी माने तो कोरोना की तीसरी लहर अगस्त के महीने में ही आ सकती है। इस दौरान रोजाना एक लाख नए केस सामने आ सकते हैं। हालांकि, इस रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि तीसरी लहर दूसरी के मुकाबले ज्यादा घातक नहीं होगी।

अक्टूबर में पीक पर होगी कोरोना की तीसरी लहर

हैदराबाद और कानपुर IIT में मथुकुमल्ली विद्यासागर और मनिंद्र अग्रवाल के नेतृत्व में शोध किया गया था। जिसमें कहा गया है कि कोरोना की तीसरी लहर अगस्त से शुरू होगी जो अक्टूबर में अपने चरम पर पहुंच सकती है। विशेषज्ञों ने केरल और महाराष्ट्र को लेकर चिंता जाहिर की है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password