दंतेवाड़ा में नक्सली हमले के बाद बस्तर के सभी जिलों में हाई अलर्ट

Chhattisgarh: दंतेवाड़ा में नक्सली हमले के बाद बस्तर के सभी जिलों में हाई अलर्ट

Share This

दंतेवाड़ा। Chhattisgarh छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्र दंतेवाड़ा जिले में बुधवार को बारूदी सुरंग विस्फोट में सुरक्षाबल के 10 जवानों समेत 11 लोगों की मौत की घटना के बाद राज्य के बस्तर संभाग के सभी सात जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। पुलिस अधिकारियों द्वारा इस बात की जानकारी मीडिया को गुरूवार को दी गई। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षाबलों से वाहनों का इस्तेमाल करने के दौरान सतर्क रहने को कहा गया है। साथ ही नक्सलियों द्वारा बिछाई गई बारूदी सुरंगों का पता लगाने के लिए भी निर्देशित किया गया है।

Kidney Health : इन इशारों से समझे किडनी खराब होने के संकेत

सभी जिलों में हाई अलर्ट जारी — Chhattisgarh
बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने बताया कि दंतेवाड़ा में हुए हमले को देखते हुए क्षेत्र के सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों (एसपी) को हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। बस्तर संभाग में कांकेर, कोंडागांव, नारायणपुर, बस्तर, दंतेवाड़ा, सुकमा और बीजापुर जिले शामिल हैं। गर्मियों के दौरान मार्च से जून माह के मध्य तक नक्सली टैक्टिकल काउंटर ऑफेंसिव कैंपेन (टीसीओसी) चलाते हैं और बड़ी घटनाओं को अंजाम देने की कोशिश करते हैं। पूर्व में भी इस अवधि में सुरक्षा बलों पर कई हमले किए गए हैं।

Panchak 2023: मई में इस दिन से लगेंगे चोर पंचक, जानें क्या होते हैं

नक्सल विरोधी ​अभियान होगा तेज — Chhattisgarh
पुलिस अधिकारियों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार सुरक्षाबलों से कहा गया है कि वे इस दौरान सतर्क रहें और नक्सल विरोधी अभियान तेज करें। उन्होंने बताया कि दंतेवाड़ा के पुलिस लाइन में सुबह 11 बजे शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देने के बाद उनके पार्थिव शरीर को उनके निवास स्थानों के लिए रवाना किया जाएगा।

Naxalite Attack in Dantewada: नहीं थम रहा आंसुओं का सैलाब, जवानों को नम आंखों से अंतिम विदाई

क्या था मामला — Chhattisgarh
दंतेवाड़ा जिले के अरनपुर थाना क्षेत्र में नक्सलियों ने बुधवार दोपहर सुरक्षा बलों के काफिले में शामिल एक वाहन को विस्फोट से उड़ा दिया था। इस घटना में 10 पुलिसकर्मी और एक वाहन चालक की मौत हो गई थी। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि इस हमले में शहीद जवान जिला रिजर्व गार्ड (राज्य पुलिस की एक नक्सल विरोधी इकाई) के सदस्य थे। शहीद जवानों में से आठ दंतेवाड़ा जिले के निवासी थे, जबकि एक-एक पड़ोसी जिला सुकमा और बीजापुर के रहने वाले थे। उन्होंने बताया कि शहीद जवानों में से कुछ नक्सलवाद छोड़ने के बाद सुरक्षाबल में शामिल हुए थे। बस्तर क्षेत्र के ज्यादातर युवाओं को डीआरजी में भर्ती किया गया है। यह दल नक्सलियों से लड़ने में माहिर माना जाता है। इस दल में आत्मसमर्पण करने वाले कुछ नक्सली भी शामिल हैं।

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password