अफ़वाहों से बचें और टीकाकरण के लिए अपनी बारी का इंतजार करें : योगी आदित्यनाथ

लखनऊ, 16 जनवरी (भाषा) उत्तर प्रदेश के सभी जिलों के 317 केंद्रों पर शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत हुई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बलरामपुर अस्पताल का दौरा किया और उन स्वास्थ्य कर्मियों से मुलाकात कर उनका हालचाल जाना जिन्हें आज कोविड-19 का टीका लगाया गया। इस मौके पर उन्होंने लोगों से अफवाहों से बचने और टीका लगवाने के लिये अपनी बारी का इंतजार करने को कहा।

उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान के माध्यम से अब इस महामारी पर पूरी तरह से नियंत्रण पाया जा सकेगा। उन्होंने टीके के लिए प्रधानमंत्री तथा देश के वैज्ञानिकों के प्रति आभार जताया। उन्होंने कहा कि इतने कम समय में देश की जनता की रक्षा के लिए दो टीके तैयार कर पाना प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में ही सम्भव था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार के दिशा निर्देश के अनुरूप प्राथमिकता के अनुसार प्रदेश में टीकाकरण किया जाएगा। केन्द्र व राज्य के प्रयासों और व्यवस्थाओं से कोविड-19 को नियंत्रित करने में सफलता मिली है।

आदित्यनाथ ने कहा कि कोविड नियंत्रण में मीडिया ने सकारात्मक भूमिका निभायी। उन्होंने मीडिया का आह्वान करते हुए कहा कि वह टीके के बारे में अफवाहों को रोकने के लिए काम करे।

उन्होंने कहा, “सभी लोग कोरोना टीके के संबंध में फैलाई जा रही अफवाहों से बचें और टीकाकरण के लिए अपनी बारी का इंतजार करें। भारत द्वारा विकसित टीके विश्व के सबसे सफल और सस्ते हैं। इस टीकाकरण अभियान की शुरुआत से और सबके प्रयासों से उत्तर प्रदेश सहित पूरा देश इस महामारी पर विजय प्राप्त करने में सफल होगा।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना टीकाकरण के लिए निर्धारित प्रक्रिया का पूरा पालन किया जाएगा। प्रथम चरण में कोरोना योद्धाओं, चिकित्सकों, नर्स, पैरामेडिकल कर्मियों का टीकाकरण होगा। इसके बाद पुलिसकर्मी, स्वच्छता कर्मी, राजस्व कर्मी इत्यादि टीकाकरण की कतार में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इसके उपरान्त 50 वर्ष से ऊपर के ऐसे लोगों का टीकाकरण किया जाएगा, जो किसी अन्य बीमारी (कोमॉर्बिडिटी) का शिकार हैं। कोरोना का पहला टीका लगने के बाद दूसरा टीका 28 दिन के बाद लगाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान की शुरुआत के बाद भी लोगों को अभी पूरी सावधानी बरतनी होगी, एहतियाती उपायों का पालन पहले की तरह करना होगा।

शनिवार रात जारी सरकारी बयान के अनुसार उत्तर प्रदेश के सभी जिलों के 317 केंद्रों पर टीकाकरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

स्वास्थ्य मंत्री जी जय प्रताप सिंह ने बलरामपुर चिकित्सालय का भ्रमण किया। प्रदेश के पांच जिलों -अंबेडकर नगर, बदायूं, फिरोजाबाद, बहराइच एवं झांसी के 11 चयनित टीकाकरण केंद्रों पर स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को ‘कोवैक्सीन’ लगाई गई। शेष 306 केंद्रों पर स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ताओं को ‘कोवीशील्ड’ लगाई गई। सभी जगहों पर टीकाकरण कार्यक्रम सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ।

बयान के अनुसार कुछ लाभार्थियों द्वारा मामूली दर्द, चक्कर आदि की शिकायत बताई परन्तु किसी भी स्थान पर कोई विशेष प्रतिकूल प्रभाव की घटना नहीं हुई। प्राप्त सूचना के आधार पर निर्धारित स्थानों पर स्वास्थ्य विभाग के महानिदेशक डॉक्‍टर डीएस नेगी एवं डाक्‍टर राकेश दुबे, एसजीपीजीआई के निदेशक डाक्‍टर कृष्ण कांत धीमान, मेदांता हॉस्पिटल के निदेशक डॉ राकेश कपूर तथा किंग जार्ज चिकित्‍सा विश्‍वविद्यालय के पल्मोनरी मेडिसिन के विभागाध्यक्ष डाक्‍टर सूर्यकान्त को भी टीका लगाया गया। इन सभी लोगों ने टीके की प्रथम खुराक पाकर प्रसन्नता व्यक्त की और आशा जताई कि इस टीके के बाद सभी लोग सुरक्षित होंगे।

सरकारी प्रवक्‍ता के मुताबिक शनिवार शाम छह बजे तक कुल 20,076 स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण किया गया।

भाषा जफर आनन्‍द शोभना

शोभना

Share This

0 Comments

Leave a Comment

अफवाहों से बचें और टीकाकरण के लिये अपनी बारी का इंतजार करें :योगी आदित्यनाथ

लखनऊ, 16 जनवरी (भाषा) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को बलरामपुर अस्पताल का दौरा किया और उन स्वास्थ्यकर्मियों से मुलाकात कर उनका हालचाल जाना जिन्हें आज कोविड-19 का टीका लगाया गया। इस मौके पर उन्होंने लोगों से अफवाहों से बचने और टीका लगवाने के लिये अपनी बारी का इंतजार करने को कहा।

उन्होंने कहा कि कोरोना टीकाकरण अभियान के माध्यम से अब इस महामारी पर पूरी तरह से नियंत्रण पाया जा सकेगा। उन्होंने कोरोना टीके के लिए प्रधानमंत्री तथा देश के वैज्ञानिकों के प्रति आभार जताया। उन्होंने कहा कि इतने कम समय में देश की जनता की रक्षा के लिए दो कोविड टीके तैयार कर पाना प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में ही सम्भव था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार के दिशानिर्देश के अनुरूप प्राथमिकता के अनुसार प्रदेश में टीकाकरण किया जाएगा। केन्द्र व राज्य के प्रयासों और व्यवस्थाओं से कोविड-19 को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। आज उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के बहुत कम सक्रिय संक्रमण के मामले है और यह सामूहिक प्रयास से सम्भव हुआ है।

आदित्यनाथ ने कहा कि कोविड नियंत्रण में मीडिया ने सकारात्मक भूमिका निभायी। उन्होंने मीडिया का आह्वान करते हुए कहा कि वह कोरोना टीके के बारे में अफवाहों को रोकने के लिए काम करे।

उन्होंने कहा, “सभी लोग कोरोना टीके के संबंध में फैलाई जा रही अफवाहों से बचें और टीकाकरण के लिए अपनी बारी का इन्तजार करें। भारत द्वारा विकसित टीके विश्व के सबसे सफल और सस्ते हैं। इस टीकाकरण अभियान की शुरुआत से और सबके प्रयासों से उत्तर प्रदेश सहित पूरा देश इस महामारी पर विजय प्राप्त करने में सफल होगा।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना टीकाकरण के लिए निर्धारित प्रक्रिया का पूरा पालन किया जाएगा। प्रथम चरण में कोरोना योद्धाओं, चिकित्सकों, नर्स, पैरामेडिकल कर्मियों का टीकाकरण होगा। इसके बाद पुलिसकर्मी, स्वच्छता कर्मी, राजस्व कर्मी इत्यादि टीकाकरण की कतार में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इसके उपरान्त 50 वर्ष से ऊपर के ऐसे लोगों का टीकाकरण किया जाएगा, जो किसी बीमारी (कोमॉर्बिडिटी) का शिकार हैं। कोरोना का पहला टीका लगने के बाद दूसरा टीका 28 दिन के बाद लगाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान की शुरुआत के बाद भी लोगों को अभी पूरी सावधानी बरतनी होगी। कोरोना संबंधी ऐहतियाती उपायों का पालन पहले की तरह करना होगा।

भाषा जफर प्रशांत

प्रशांत

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password