Corona Varient: भारत के साथ अब पूरे 53 देशों में भी है कोरोना का यही विकराल रूप,WHO ने बताया चिंताजनक

जिनेवा। (भाषा) विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक भारत में कोरोना वायरस का पहली बार पाया गया बी.1.617 प्रकार अब 53 देशों में मिला है। डब्ल्यूएचओ ने पाया कि पिछले सात दिन में भारत में नये मामलों में 23 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई है लेकिन यह फिर भी दुनिया में सबसे ज्यादा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के कोविड-19 साप्ताहिक महामारी संबंधी अपडेट में कहा गया है कि पिछले हफ्ते दुनिया भर में संक्रमण के नये मामलों और मौत के मामलों में गिरावट जारी है।

54 देशों में बी.1.617.2 का कोविड वैरिएंट

एक सप्ताह में 41 लाख नये मामले और मौत के 84,000 मामले दर्ज किए गए जो उससे पिछले हफ्ते की तुलना में क्रमश: 14 प्रतिशत और दो प्रतिशत कम है। अपडेट के मुताबिक भारत में पहली बार सामने आया बी.1.617 प्रकार अब दुनिया भर के 53 देशों में सक्रिय है। बी.1.617 वायरस तीन वंशावलियों में विभाजित है- बी.1.617.1, बी.1.617.2 और बी.1.617.3 में। अपडेट में विभिन्न देशों और क्षेत्रों में 25 मई तक बी.1.617 की तीन उपवंशावलियों के प्रचलन को देखा गया। इसके मुताबिक, 41 देशों में बी.1.617.1 पाया गया, 54 देशों में बी.1.617.2 और छह देशों में बी.1.617.3 पाया गया है। इसके अलावा डब्ल्यूएचओ को अनधिकृत सूत्रों से चीन समेत 11 देशों में बी.1.617.1, बी.1.617.2 उप-वंशावलियों के लिए सूचना मिली है और अधिक सूचनाएं उपलब्ध होने पर इनकी समीक्षा की जाएगी।

भारत के लिए विनाशकारी हुआ ये नए वैरिएंट

डब्ल्यूएचओ ने बी.1.617 को “चिंता का प्रकार” घोषित कर दिया है और अपडेट में बताया गया कि इस प्रकार का ‘‘प्रसार अधिक” है और इससे होने वाली बीमारी की गंभीरता, संक्रमण की गंभीरता “जांच के अधीन” है और निराकरण गतिविधि (बी.1.617.1) में संभवत: मामूली गिरावट हो सकती है। इसमें बताया गया कि पिछले सात दिन में कोविड के सर्वाधिक नये मामले भारत से (18,46,055 नये मामले, 23 प्रतिशत गिरावट) सामने आए। इसके बाद ब्राजील (4,51,424 नये मामले, तीन प्रतिशत गिरावट), अर्जेंटीना (2,13,046 नये मामले,41 प्रतिशत वृद्धि), अमेरिका (1,88,410 नये मामले, 20 प्रतिशत गिरावट) और कोलंबिया (1,07,590 नये मामले, सात प्रतिशत गिरावट) से सामने आए हैं।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password