आसान भाषा में जानिए, क्या है Twitter का ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ टैग, क्यों हो रही है इसकी चर्चा

manipulated media

नई दिल्ली। इन दिनों ट्विटर को लेकर एक शब्द काफी चर्चा में है। ये शब्द है ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’। हालांकि भारत के लिए ये शब्द नया। अमेरिका और पश्चिमी देशों के लिए यह टर्म नया नहीं है। दरअसल, पहले भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा (Sambit Patra) और अब छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह (Raman Singh) के ट्वीट पर लगे Manipulated Media टैग के बाद यह शब्द काफी चर्चा में है। अबतक करीब 20 हजार से ज्यादा लोगों ने इस नाम से पोस्ट किए हैं। लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि ट्विटर (Twitter) के इस टैग ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ का मतलब क्‍या है, ट्विटर इसे कैसे तय करता है। आइए जानते हैं इन सभी सवालों के जवाब।

आखिर होता क्या है मैनिपुलेटेड मीडिया?

Twitter ने ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ को साफ तौर पर परिभाषित किया हुआ है। इसके अनुसार, ऐसा कोई भी मीडिया जिसे जानबूझकर भ्रामक रूप से बदल दिया गया हो या उसमें हेरफेर किया गया हो, उसे मैनिपुलेटेड मीडिया कहा जाता है। इस तरह के मीडिया में वीडियो, ऑडियो और इमेज शामिल हैं। अगर कोई व्यक्ति अपने ट्वीट में दी गई जानकारी का सोर्स सटीक नहीं बताता। साथ ही दी गई जानकारी अगर गलत है। तो इस स्थिति में ट्विटर उस ट्वीट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का लेबल लगा देता है। यानी ट्विट में दी गई जानकारी से नुकसान होने की आशंका है।

क्या था पूरा मामाला?

बतादें कि संबित पात्रा कोई पहले व्यक्ति नहीं है जिनके ट्विट पर इस तरह से लिखा गया हो। इससे पहले अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव के दौरान डोनाल्ड ट्रंप के कई ट्वीट्स पर इस तरह का लेबल लगाया गया था। लेकिन भारत में संबित पात्रा के ट्विट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का लेबल लगने के बाद इसकी चर्चा काफी तेज हो गई है। मालूम हो कि 18 मई को BJP प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक ट्वीट किया था। इस ट्वीट में एक टूलकिट का हवाला दिया गया था। साथ ही कांग्रेस पर कई आरोप लगाए गए थे। पात्रा का कहना था कि Congress पार्टी टूलकिट के माध्यम से PM Modi की छवि बिगाड़ने की कोशिश कर रही है। जिसके बाद ट्विटर ने पात्रा के ट्वीट को मैनिपुलेटेड मीडिया की कैटेगरी में डाल दिया था।

Twitter किस कंटेंट को मैनिपुलेटेड बताती है ?

कंपनी के मुताबिक, किसी भी कंटेंट को इस कैटेगरी में रखने के लिए कई तरह की टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही इस टैग को लगाने के लिए एक्सपर्ट्स से समीक्षा भी कराई जाती है। कंपनी जिस भी वीडियो, इमेज या ऑडियो को मैनिपुलेटेड मीडिया बताती है, उसके नीचे इसका लेबल आ जाता है। कंपनी ऐेसे कंटेट से होने वाले नुकसान की आशंका को भी जांचती है। अगर इससे ज्यादा नुकसान नहीं है तो एक वार्निंग के तौर पर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग लगा दिया जाता है। अगर इससे नुकसान ज्यादा है तो इसे प्लेटफॉर्म से हटाया भी जाता है। साथ ही यूजर को चेतावनी दी जाती है कि अगर वे पॉलिसी का बार-बार उल्लंघन करेंगे तो उनके अकाउंट को स्थायी रूप से बंद भी कर दिया जा सकता है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password