Colombia Plan Crash: क्या ऐसा भी होता है, प्लेन क्रैश हादसे के 40 दिन बाद जिंदा मिले 4 बच्चे

Colombia Plan Crash: क्या ऐसा भी होता है, प्लेन क्रैश हादसे के 40 दिन बाद जिंदा मिले 4 बच्चे

Share This

Colombia Plan Crash: देश-दुनियाभर में प्लेन हादसे की कई बड़ी और गंभीर घटनाएं सामने आती रहती है हादसों में अक्सर पायलट और यात्रियों के मौत होने या घायल होने की खबरें ही सामने आती है। इससे अलग एक चमत्कार सामने आया है। लैटिन अमेरिकी देश कोलंबिया में हुए विमान हादसे के 40 दिनों के बाद ऐसा हुआ है जिसे सुन हर कोई आश्चर्य चकित हो जाएगा। यहां पर भयानक अमेजन जंगल से 4 बच्चों को जिंदा खोजा गया है।

 

पढे़ें ये खबर भी- MP Weather: एमपी में दो सिस्टम एक्टिव, मानसून की एंट्री के पहले हल्की बारिश का अनुमान

कब हुआ था हादसा

आपको बताते चले कि, यह दर्दनाक हादसा बीते 1 मई को घटित हुआ था जिसे लेकर कोलंबिया के राष्ट्रपति गुस्तावो पेड्रो ने अपने बयान में खुशी जाहिर करते हुए बात कही है। इसमें कहा कि, “पूरे देश के लिए एक खुशी! कोलम्बियाई जंगल में 40 दिन पहले खो गए 4 बच्चे जीवित मिले हैं।” राष्ट्रपति पेड्रो ने भाई-बहनों को खोजने और बचाने के लिए ऑपरेशन में भाग लेने वाले कई सैन्य और स्वदेशी लोगों की एक तस्वीर पोस्ट की है, जिसमें रेस्क्यू टीम के साथ बहुत बुरी स्थिति में बच्चों को देखा जा रहा है। राष्ट्रपति पेट्रो ने संवाददाताओं से कहा, कि फोटो में दुबले-पतले दिखने वाले भाई-बहन अकेले थे जब खोजकर्ताओं ने उन्हें ढूंढा और अब उनका इलाज चल रहा है।

पढे़ें ये खबर भी- CG New College: छग में खोले जाएंगे 15 नए कॉलेज, उच्च शिक्षा विभाग ने दी स्वीकृति, देखें लिस्ट

भयानक स्थिति में बच गए ये बच्चे

आपको बताते चले कि, यहां पर कोलंबिया के दर्दनाक हादसे में बचे बच्चो की बात करें तो, उनके नाम लेस्ली जैकोम्बेयर मुकुटुय (13 साल), सोलेनी जैकबोम्बेयर मुकुटुय (9 साल), टीएन रानोक मुकुटुय (4 साल) और क्रिस्टिन रानोक मुकुटुय (12 महीने) घातक विमान दुर्घटना में बचने वाले बच्चे हैं। हादसे के दिन हुआ यह था कि, यहां पर जब छह यात्रियों और एक पायलट के साथ सेसना सिंगल-इंजन प्रोपेलर विमान ने इंजन की खराबी के कारण आपात स्थिति की घोषणा की थी। दुर्घटना में बच्चों की मां, मागदालेना मुकुटुय वालेंसिया, पायलट और एक स्वदेशी नेता की मृत्यु हो गई थी। लेकिन हादसे में इन बच्चों के बचने की कोई जानकारी नहीं मिली थी।

पढे़ें ये खबर भी- Aadhaar PAN Link: इस दिन से पहले PAN और Aadhaar को करा ले लिंक; हो सकते है ये नुकसान

सेना ने शुरू किया था तलाशी अभियान

आपको बताते चले कि, हादसे के बाद से सेना ने बच्चों को ढूंढने के लिए तलाशी अभियान चलाया था, सेना के नेतृत्व में बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया गया। सेना ने शुक्रवार को तस्वीरें ट्वीट कीं, जिसमें सैनिकों और स्वयंसेवकों का एक समूह बच्चों के साथ दिख रहा है, जो थर्मल कंबल में लिपटे हुए हैं। वहीं, सैनिक सबसे छोटे बच्चे को दूध पिला रहे थे।

कोलंबिया के सैन्य कमांड ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, “हमारे संयुक्त प्रयासों की वजह से ये ऑपरेसन कामयाब हो पाया है।” लोगों का कहना है, कि 12 महीने के बच्चे का 40 दिनों तक घने जंगल में जिंदा रहना, किसी चमत्कार से कम नहीं है, क्योंकि वहां उस बच्चे के इतने दिनों तक जिंदा रहने की कोई वजह नहीं थी। बच्चों ने बताया, कि वो पेड़-पौधों के बीच किसी तरह से रह रहे थे। फलों को खाकर जिंदा बच्चे बचे है।

 

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password