YamRaj Mantra In Jyotsh Shashra : अकाल मृत्यु से बचने का मौका! मार्गशीर्ष में करें ये उपाय, शास्त्रों में उल्लेख, यमराज के पांच मंत्र

नई दिल्ली। आपने अक्सर देखा YamRaj Mantra In Jyotsh Shashra  होगा कई लोगों के परिवारों में अक्सर लोगों की कम उम्र में या फिर अकाल मृत्यु हो जाती है। लोगों पर मुसीबतें बनी ही रहती हैं। ऐसे में धर्म शास्त्र में कुछ ऐसे मंत्र सुझाए गए हैं। जो आपको इन मुसीबतों से बचा सकते हैं। इसके लिए वर्तमान में चल रहा मार्गशीर्ष का महीना शुभ माना जाता है। पंडित राम गोविन्द शास्त्री के अनुसार यमराज के काल से बचने के लिए इस माह का खासा महत्व है।

यमराज का पूजन कर मृत्यु के भय को कम किया जा सकता है। आइए जानते हैं वे मंत्र। हिन्दू धर्मशास्त्रों में अकाल मृत्यु, दुख और क्लेश दूर करने के अनेक उपाय बताए गए हैं। तो आइए जानते हैं अकाल मृत्यु से बचने तथा दीर्घायु, आरोग्य और ऐश्वर्य में वृद्धि करने वाले मंत्र और उपाय।

क्या वर्णित है विष्णुधर्मोत्तर पुराण में
विष्णुधर्मोत्तर पुराण के अनुसार, जिन परिवारों में बीमारी किसी न किसी व्यक्ति को होती रहती हो। छोटी उम्र में परिवार के किसी सदस्य की मृत्यु हो जाए तो अभी चल रहा मार्गशीर्ष मास का लाभ आप भी उठा सकते हैं। शुक्ल पक्ष में मृत्यु के देवता भगवान धर्मराज यानि यमराज की पूजा-अर्चना, विधि विधान से हवन करने भय को कम किया जा सकता है। आपके द्वारा किया गया यह उपाय दीर्घायु, आरोग्य और ऐश्वर्य आदि तीनों सुखों को प्राप्त कराता हैं।

इन मंत्रों के साथ करें आहुति — 

  • ॐ यमाय नम:
  • ॐ धर्मराजाय नम:
  • ॐ मृत्यवे नम:
  • ॐ अन्तकाय नम:
  • ॐ कालाय नम:

इन मंत्रों से भय होगा समाप्त —
ज्योतिषाचार्यों की मानें तो हवन में इन पांच मंत्रों को बोलते हुए आहुति करने से अकाल मृत्यु का भय नहीं होता है। बीमारी और तकलीफों से बचने के लिए लोगों को इन मंत्रों के साथ हवन में आहुति अवश्य करना चाहिए।इन मंत्रों के साथ स्वाहा शब्द का उच्चारण करें। ध्यान रखें आहूति नहीं करने वालों को इन मंत्रों का उच्चारण नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ें : Vastu Tips : अगर आप भी करते हैं ऐसे साइन, तो हो जाएं सतर्क, जानें सही तरीका

अमावस्या को करें ये उपाय —
परिवार में इस तरह की ​अकाल मृत्यु की स्थिति बनने पर या जल्दी-जल्दी भी किसी व्यक्ति की मृत्यु होने पर प्रत्येक माह की अमावस्या तिथि को परिवार के सभी सदस्यों के साथ मिलकर गीता के सातवें अध्याय का पाठ अवश्य करना चाहिए। जैसे ही पाठ समाप्त हो सूर्यदेव को अर्घ्य जरूर दें।ऐसा करने से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं। साथ ही प्रार्थना करें कि इससे घर में सभी लोगों की आयु लंबी हो और परिवार के जो भी लोग पहले गुजर गए हैं। हे भगवान आप उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें।

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करें – 
अमावस्या तिथि के दिन गरीब बच्चों को मीठा हलवा और खाना खिलाएं।ये उपाय आपके लिए आपको अकाल मृत्यु के भय से बचाकर सुख-ऐश्वर्य में वृद्धि करते हैं। आपको दीर्घायु प्रदान कर सकते हैं।

नोट :  इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित है। बंसल न्यूज इसकी पुष्टि नहीं करता। अमल में लाने से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password