दुनिया का सबसे जहरीला बिच्छू, जिसका एक लीटर जहर 75 करोड़ में बिकता है

scorpion

नई दिल्ली। दुनिया में एक से बढ़कर एक जीव जंतु पाए जाते हैं इनमें से कुछ जहरीले होते हैं तो कुछ बिना जहर वाले। लेकिन आज हम जहरीले जीव जंतुओं की बात करने वाले हैं। उनमें से कुछ जीव इतने जहरीले होते हैं कि उनके जहर से महज चंद सेकंड में किसी इंसान की मौत हो जाए। आपने अब तक दुनिया के सबसे जहरीले सांप के बारे में सुना होगा, लेकिन आज हम आपको दुनिया के सबसे जहरीले बिच्छू के बार में बताएंगे।

बेशकीमती है इसका जहर

दुनिया का सबसे जहरिला बिच्छू क्यूबा में पाया जाता है। आम बिच्छूओं से अलग इसका रंग नीला होता है। ये जिताना खतरनाक होता है, उनका ही इसे बेशकीमती भी माना जाता है। कहा जाता है कि इसका जहर 75 करोड़ रूपये प्रति लीटर बिकता है। दरअसल, इसके जहर से ‘Vidatox’ नाम की दवाई बनाई जाती है। जिससे कैंसर को जड़ से खत्म किया जा सकता है।

इसे चमत्कारी दवा कहा जाता है

इस दवा को क्यूबा में चमत्कारी दवा कहा जाता है। जिस बिच्छू के जहर से ये दवा बनती है। उसका जहर किंग कोबरा के जहर से भी ज्यादा महंगा है। बतादें कि कंग कोबरा का जहर 30.3 करोड़ रूपये के करीब है, जबकि इस बिच्छू के जहर की कीमत 75 करोड़ रुपये है। इस जहर को दुनिया का सबसे महंगा जहर माना जाता है। विशेषज्ञ मानते हैं कि क्यूबा के इस बिच्छू के जहर में 50 लाख से अधिक यौगिक मौजूद हैं, जिसमें से अभी तक कुछ ही यौगिकों की पहचान की गई है। अगर इसके सारे यौगिकों की पहचान कर ली जाए तो इसके जहर का महत्व और अधिक बढ़ जायेगा। क्योंकि इससे दूसरे असाध्य रोगों की दवाइयां बनने की संभावना है।

जहर का इस्तेमाल मेडिकल रिसर्च में भी किया जा रहा है

इजराइल की Tel Aviv University के प्रोफेसर Michael Gurevitz के अनुसार, इस बिच्छू के जहर का इस्तेमाल कई मेडिकल रिसर्च और ट्रीटमेंट के लिए हो रहा है। इन बिच्छुओं के जहर में कुछ ऐसे तत्व हैं जो पेनकिलर के तौर पर भी काम करते हैं। इसके जहर से कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी को भी रोका जा सकता है क्योंकि इस जहर में मौजूद कुछ तत्व कैंसर कारक सेल्स को बनने से रोक सकते हैं। इतना ही नहीं इस बिच्छू के जहर का इस्तेमाल ऑर्गन ट्रान्सप्लांट में भी किया जाता है और ये बॉडी के इम्यून सिस्टम पर तेजी से काम काम करने लगता है। ऐसे में ऑर्गन रिजेक्ट होने की संभावना कम रहती है। इसके अलावा हड्डी की बीमारी Arthritis को भी इस जहर के माध्यम से रोका जा सकता है। इसके माध्यम से हड्डियों के घिसने की प्रॉसेस को कम किया जा सकता है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password