world-menstrual-hygiene-day-28-may-पीरियड्स-में-कहीं-आप-भी-तो-नहीं-करतीं-ऐसे-पेड्स-का-इस्तेमाल-गंभीर-हो-सकते-हैं-परिणाम

World Menstrual Hygiene Day 28 May : पीरियड्स में कहीं आप भी तो नहीं करतीं ऐसे पेड्स का इस्तेमाल, गंभीर हो सकते हैं परिणाम

भोपाल। महिलाओं में हर महीने World Menstrual Hygiene Day 28 May पीरियड्स का आना प्राकृतिक bansal health news प्रक्रिया है। हर lifestyle news महीने उन्हें मासिक चक्र से गुजरना पड़ता है। आपको बता दें ये एक ऐसी चीज है जिसमें हाइजीन बहुत जरूरी है। अगर ऐसा नहीं करें तो इंफेक्शन हो सकता है। जिसमें प्राइवेट पार्ट में खुलती, जलन, रैशेज की समस्या हो सकती है। इररेगुलर पीरियड्स भी हो सकते हैं। बंसल हॉस्पिटल की वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ दीप्ति गुप्ता से जानते हैं कि मासिक चक्र के समय आपको कौन—कौन सी बातें हैं, जिसका ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

इन बातों का जरूर रखें ध्यान —

  • आपको हर 3 से 5 घंटे के बीच पैड जरूर बदल लेना चाहिए। हालांकि अगर फ्लो बहुत ज्यादा है तो पैड को जल्दी चेंज कर लेना जरूरी हो जाता है।
  • अक्‍सर महिलाएं लापरवाही करती हैं कि पैड पर अभी ज्‍यादा ब्‍लड नहीं है, तो वे उसे लंबे समय के लिए चेंज ही नहीं। यह इन्फेक्शन का कारण बन सकता है।
  • कपडे के इस्‍तेमाल से परहेज करें। टेंपून, पैड या मेन्स्ट्रुअल कप का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है।
  • पैड बदलते वक्त प्राइवेट पार्ट की सफाई अवश्य करें।
  • पीरियड्स के दौरान अंडर गारमेंट्स को साफ रखना बेहद जरूरी है। इन्हें धोने के लिए डिटर्जेंट का ही इस्तेमाल करना चाहिए। साथ ही ये भी जरूरी है कि इन्हेंसूरज की धूप में सुखाया जाए। ताकि कीटाणु खत्म हो जाएं।

(डॉ दीप्ति गुप्ता, वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं और हाई रिस्क प्रेगनेंसी मामलों की जानकार हैं, वर्तमान में बंसल अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रही हैं)

यह भी पढ़ें : World Menstrual Hygiene Day 28 May: भारत में अलग—अलग राज्यों में पीरियड्स से रिवाज

Period Symptoms In Hindi : पीरियड्स से पहले शरीर में होती है अकड़न, दर्द और मूड स्विंग्स, दूर करने के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password