लंबे समय तक पानी में रहने के बाद हाथों और पैरों की त्वचा क्यों सिकुड़ जाती है? जानिए इसके पीछे की वजह

skin

नई दिल्ली। यदि आप भी पानी में देर तक नहाते होंगे तो आपके हाथ और पैर की त्वाचा सिकुड़ जाती होगी। इस बात को तो हम सब ने गौर किया होगा। लेकिन शायद आपने कभी इस बात पर गौर नहीं किया होगा कि आखिर ऐसा होता क्यों है? आइए आज हम आपको बताते हैं ऐसा क्यों होता है…

हाथों और पैरों की त्वचा बहुत मोटी होती है

ज्यादा देर तक नहाने या पानी में रहने के बाद त्वचा सिकुड़ जाती है। खास बात यह है कि हमारे हाथ-पैर की त्वचा ही सिकुड़ती है। जो कि बाकि त्वचा के मुकाबले काफी मोटी होती है। इसके अलावा यह सिकुड़न कुछ देर के लिए होती है और फिर अपने आप ठीक हो जाती है। हालांकि यह पूरी प्रक्रिया प्राकृतिक है और आमतौर पर इससे शरीर पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है।

शरीर पर्यावरण के अनुकूल ठलने में माहिर होता है

दरअसल, हमारा शरीर खुद को पर्यावरण के अनुकूल बनाने में माहिर होता है। लिहाजा, पानी की वजह से त्वचा सिकुड़ने के बाद किसी गीली वस्तु पर हमारी पकड़ मजबूत हो जाती है जबकि हम सूखे हाथों से गीली चीज को अच्छी तरह से नहीं पकड़ सकते। इतना ही नहीं, पैरों की सिकुड़ी हुई त्वचा की मदद से ही हम स्वीमिंग पूल या फिर भीगी सतह पर अच्छी तरह से चल पाते हैं। वहीं, यदि हमारा पैर सूखा हो तो गीली सतह पर चलना काफी मुश्किल हो जाता है और हम फिसल जाते हैं।

त्वचा के ऊपरी परत पर सीबम तेल होता है

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हमारी त्वाचा की सबसे ऊपरी परत पर सीबम नामक तेल होता है। ताकि यह हमारी त्वचा की सुरक्षा के साथ-साथ चिकनाई और नमी प्रदान कर सके। सीबम ऑयल हमारी त्वचा पर ठीक वैसे ही काम करता है जैसे रेनकोट करता है। यही कारण है कि जब हम सूखे हाथों को धोते हैं तो पानी आसानी से फिसल जाता है। लेकिन जब हम ज्यादा देर तक पानी में बैठे रहते हैं या नहाते हैं तो हमारी त्वचा पर मौजूद सीबम तेल धुल जाता है।

तेल धुलने की वजह से पानी हमारे हाथ और पैर की ऊपरी त्वचा में प्रवेश करने लगता है और अधिक पानी प्रवेश करने की वजह से स्किन सिकुड़ जाती है। हालांकि जैसे ही हम पानी से बाहर निकलते हैं स्किन की उपरी परत में घुसा पानी वाष्पीकृत होने लगता है और हाथ की त्वचा पहले की तरह ही सामान्य हो जाती है।

केराटिन भी है एक कारण

इसके अलावा हाथ और पैर की त्वचा सिकुड़ने के पीछे एक और बड़ी वजह है ‘केराटिन’। क्योंकि बाकी शरीर की त्वाचा के मुकाबले हाथ और पैरों की त्वचा में केराटिन ज्यादा प्रभावशाली होती है। लिहाजा देर तक पानी में रहने की वजह से हमारे हाथ और पैर की त्वचा पानी सोखने लगती है और सिकुड़ जाती है। बतादें कि पानी की वजह से त्वचा सिकुड़ने की प्रक्रिया को Aquatic Wrinkles कहा जाता है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password