President Election 2022 : भारत का राष्ट्रपति हमेशा 25 जुलाई को ही क्यों लेता है शपथ, जानिए क्या है वजह

President Election 2022 : भारत का राष्ट्रपति हमेशा 25 जुलाई को ही क्यों लेता है शपथ, जानिए क्या है वजह

President Election 2022: भारत में राष्ट्रपति चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज हो गई है। अगले महीने की 18 जुलाई को देश के 15वें राष्ट्रपति का चुनाव (President Election 2022) होगा। वही 21 जुलाई को नतीजे घोषित किए जाएंगे। बीजेपी एनडीए की ओर से द्रौपदी मुर्मू तो वही विपक्ष की ओर से यशवंत सिन्हा उम्मीदवार है। जानकारी के अनुसार 25 जुलाई को देश के नए राष्ट्रपति शपथ (President Election 2022)  लेंगे। लेकिन दिलचस्प बात यह है कि देश में ऐसा पहली बार नहीं होगा जब देश का राष्ट्रपति 25 जुलाई को शपथ (President Election 2022) लेगा। पहले भी इसी तारीख में देश के कई राष्ट्रपति शपथ ले चुके है। लेकिन ऐसी क्या खास वजह हैं कि 25 जुलाई को ही राष्ट्रपति (President Election 2022) पद क्यों शपथ लेता है।

शपथ के लिए 25 जुलाई ही क्यों?

दरअसल, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल जुलाई में खत्म हो रहा है। राष्ट्रपति कोविंद ने साल 2017 में 25 जुलाई को ही शपथ (President Election 2022)  ली थी। इसके अलावा पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रतिभा पाटिल ने भी 25 जुलाई को ही शपथ ली थी। दिलचस्प बात यह है कि भारत में एक भी दिन राष्ट्रपति के बिना खाली नहीं जाता है। हमेशा किसी राष्ट्रपति के कार्यकाल के खत्म होते ही अगले दूसरे दिन चुने हुए राष्ट्रपति को शपथ (President Election 2022) दिला दी जाती है।

अबतक 9 राष्ट्रपति ले चुके हैं 25 जुलाई को शपथ

भारत में 25 जुलाई को अबतक 9 राष्ट्रपति शपथ (President Election 2022) ले चुके है। भारत में राष्ट्रपति का कार्यकाल पांच साल का होता है। हर पांच साल में लोकसभा, राज्यसभा और राज्य विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य मिलकर राष्ट्रपति का चुनाव (President Election 2022) करते हैं। राष्ट्रपति के चुनाव के लिए सिंगल ट्रांसफरेबल वोट सिस्टम से चुनाव संपन्न होते है। इसके सिस्टम के तहत मतदाता अपनी पसंद के अनुसार 1, 2, 3, 4 के क्रम में उम्मीदवारों को चुनता हैै।

राष्ट्रपति पद के लिए योग्यता

राष्‍ट्रपति बनने के लिए उम्मीदवार के लिए कई योग्यताएं होनी आवश्यक है। अनुच्छेद 58 के तहत, राष्ट्रपति (President Election 2022)  के पद का चुनाव लड़ने के लिए भारत का नागरिक होना आवश्यक है। उम्मीदवार की आयु 35 वर्ष से अधिक होनी चाहिए। लोकसभा का सदस्य बनने के योग्य होना चाहिए। इसके साथ ही भारत सरकार या किसी राज्य की सरकार के अधीन या किसी स्थानीय या अन्य प्राधिकरण के अधीन किसी भी उक्त सरकार के नियंत्रण के अधीन लाभ का कोई पद धारण नहीं किया होना चाहिए।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password