पैरों में पहने जाने वाले स्लीपर को हम ‘हवाई चप्पल’ क्यों कहते हैं? जानिए इसके पीछे की वजह

sleeper

नई दिल्ली। हम अपने आम जीवन में कितनी चीजों का उपयोग करते हैं, जिनका नाम हम जानते हैं लेकिन यह नहीं जानते कि इसका नाम इस तरह क्यों रखा गया है। जैसे हम सभी ने स्लीपर का इस्तेमाल किया है। जिसे हवाई चप्पल भी कहा जाता लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसे हवाई चप्पल क्यों कहा जाता है? ज्यादातर लोग इस चीज को नहीं जानते होंगे। तो चलिए आज हम आपको इसके पीछे की वजह बताते हैं।

नाम के पिछे इतिहास छिपा होता है

मालूम हो कि किसी भी चीज के नाम के पीछे उसका इतिहास और कोई ना कोई कारण छिपा होता है। अगर किसी चीज का कोई नाम दिया गया है, तो वो उसके इतिहास, या उसके फीचर के हिसाब से दिया जाता है। ज्यादातर चीजों का नामकरण इसी आधार पर किया जाता है। जैसे हवाई जहाज को हम इसलिए हवाई जहाज कहते हैं, क्योंकि वो हवा में उड़ता है। उसी प्रकार से स्लीपर को भी हवाई चप्पल कहने के पीछे एक तर्क है, जो इसके इतिहास को बताता है।

हवाई चप्पल को लेकर लोग क्या सोचते हैं?

आपने भी कई बार सोचा होगा कि आखिर पैरों में पहने जाने वाली चप्पल को हवाई चप्पल क्यों कहते हैं? इसे पहनने के बाद कोई इंसान हवा में भी तो नहीं उड़ता, तो फिर इसके नाम के पीछे की वजह क्या है। ज्यादातर लोगों को लगता है कि हवाई चप्पल पहनने से काफी रिलैक्स यानी हल्का महसूस होता है। इस वजह से इसके नाम में हवाई जोड़ दिया गया है। लेकिन ये तर्क गलत है, हवाई चप्पल का ये नाम उसकी उत्पत्ति से जुड़ा है।

इस कारण से इसे हवाई चप्पल कहते हैं

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार, अमेरिका में एक आईलैंड है, हवाई। यहां एक खास पेड़ पाया जाता है, जिसे टी के नम से जानते हैं। इसी पेड़ से एक खास रबर जैसा फैब्रिक बनता है। जो काफी लचीला होता है। इसी फैब्रिक से चप्पल बनाई जाती है। हवाई आईलैंड से आने वाले फैब्रिक के कारण इस चप्पल को हवाई चप्पल कहते हैं।

जापान से भी जोड़ा जाता है इतिहास

हालांकि हवाई चप्पल का इतिहास जापान से भी जोड़ा जाता है। जिस डिजाइन की चप्पल हम पहनते हैं, वैसी ही जापान में पहले पहनी जाती थी। इन्हें जोरी कहा जाता था। माना जाता है कि अमेरिका के हवाई आइलैंड में काम करने लिए जापान से मजदुर गए थे। ये मजदुर जापानी चप्पल जोरी पहनकर गए थे। ऐसे में वहां, इन्हीं चप्पलों को देखकर टी पेड़ से निकलने वाले रबर मटेरियल से ठीक वैसा ही चप्पल बनाया गया। इस तरह से जापान के चप्पल हवाई चप्पल में बदल गए। इन हवाई चप्पलों का इस्तेमाल सेकंड वर्ल्ड वॉर के दौरान अमेरिकी सैनिकों ने भी की थी। हवाई से ही दुनिया भर में स्लीपर मशहूर हुए थे।

भारत में इसका इतिहास

वहीं भारत में इसके इतिहास की बात करें, तो हवाई चप्पल कई देशों में होते हुए भारत में आए। भारत में इस चप्पल को लाने का क्रेडिट बाटा को जाता है। हालांकि इस चप्पल को दुनियाभर में सबसे ज्यादा फेमस हवाईनाज कंपनी ने किया था।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password