कौन हैं डॉ सत्येन्द्र खरे, जिन्होंने लिखा "पूजा की सज गई थाली जय हो महाकाली" भजन

कौन हैं डॉ सत्येन्द्र खरे, जिन्होंने लिखा “पूजा की सज गई थाली जय हो महाकाली” भजन

देश ही नहीं प्रदेश में इन दिनों नवरात्रि के मौके पर गरबे के आयोजन हो रहे है। गुजरात की मिटटी जहां से गरबे और डांडिया पूरे देश और दुनिया में फैले उसी मिटटी ने दिए हैं कई गरबा गायक भी है तो कई भजन लिखने वाले भी है। इन गायकों की आवाज में एक आवाज मुकेश तिवारी की भी है। जो इन दिनों अनूठापन दे रहा है। भजन लिखने वाले भोपाल के डॉ सत्येंन्द्र खरे है। डॉ सत्येंन्द्र खरे पेशे से तो प्राचार्य है लेकिन उन्होंने अपनी लेखनी और अपने भजन के बोल के अंदाज से देशभर में लोगों को दीवाना बना दिया है। उनके द्वारा लिखा गया माता रानी महाकाली का एक भजन काफी तेजी से झांकियों और गरबा पांडलों पर बजाया जा रहा है। गरबा महोत्सव के दौरान बजाए जा रहे गाने के बोल है “पूजा की सज गई थाली जय हो महाकाली” यह भजन राजधानी भोपाल के रहने वाले डॉ. सत्येन्द्र खरे द्वारा लिखा गया है। इस भजन को प्रचार फिल्म द्वारा नवरात्रि के मौके पर रिकॉर्ड किया गया है। भजन को डॉ.सत्येन्द्र खरे द्वारा ही लिखा गया है।

कौन हैं सत्येन्द्र खरे

डॉ सत्येंन्द्र खरे राजधानी भोपाल के रहने वाले है, श्री खरे आइसेक्ट ग्रुप के सेक्ट महाविद्यालय के प्राचार्य है। श्री खरे ने बरकतउल्ला विश्वविद्यालय से पीएचडी की है। श्री खरे कई टीवी सीरियल, डाक्यूमेंट्री, विज्ञापन फिल्मों का निर्देशन कर चुके है। इसके आलाव श्री खरे मध्यप्रदेश जनसंपर्क विभाग की कई फिल्मों का प्रचार फिल्म प्रोडक्सन के बैनर तले निर्देशित कर चुके है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि श्री खरे खुद प्रड्यूस करते है, खुद गीत भी लिखते है। डॉ सत्येंन्द्र खरे प्रचार फिल्मस प्रोडक्शन हाउस से जुड़कर काम कर रहे है। श्री खरे के “पूजा की सज गई थाली जय हो महाकाली” भजन से पहले सांई बाबा पर एक भजन लिख चुके है। आपको बता दें कि श्री खरे 11 साल तक सांटिस्ट रहे है, इसके बाद वह बीते 22 सालों से सेक्ट महाविद्यालय में प्राचार्य के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password