Weather Update: मॉनसून ने प्रदेश को कहा अलविदा, इस साल इतने प्रतिशत अधिक हुई बारिश, जानें क्या रहे आंकड़े

भोपाल। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बृहस्पतिवार को कहा कि मध्य प्रदेश में इस वर्ष का मानसून आधिकारिक तौर पर समाप्त हो गया है और इस मानसून सीजन में राज्य में औसत से थोड़ा अधिक बारिश हुई है। मध्य प्रदेश में चार माह लंबा बरसात का मौसम जून से सितंबर तक रहता है।आईएमडी के भोपाल कार्यालय के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक जी डी मिश्रा ने बताया कि एक जून से अब तक (बृहस्पतिवार सुबह तक) राज्य में 940.6 मिलीमीटर की सामान्य बारिश के मुकाबले इस बार 945.2 मिमी बारिश हुई। उन्होंने कहा कि श्योपुर जिले में 100 प्रतिशत अधिक बारिश हुई जबकि गुना और शिवपुरी जिलों में औसत से क्रमश: 84 और 62 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई। मिश्रा ने कहा कि प्रदेश के उत्तरी हिस्से के तीन जिलों में मानसून के दौरान भरपूर बारिश हुई। विशेषकर ग्वालियर और चंबल संभाग पिछले महीने बाढ़ से प्रभावित हुए थे। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी ने कहा कि कुल मिलाकर मध्य प्रदेश के 11 जिलों में सामान्य से अधिक बारिश दर्ज हुई जबकि नौ जिलों में सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई।

इन क्षेत्रों में कम हुई बारिश…
उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र के दमोह जिले में औसत से 38 प्रतिशत कम बारिश हुई जो प्रदेश में सबसे कम है यहां 1046.3 मिमी औसत के मुकाबले अब तक केवल 644.8 मिमी बारिश हुई है। मिश्रा ने कहा कि भोपाल, इंदौर, और ग्वालियर सहित 31 जिलों में सामान्य बारिश हुई है। उन्होंने कहा कि पूर्वी मध्य प्रदेश में सामान्य से 15 फीसदी कम बारिश तथा राज्य के पश्चिमी भाग में 15 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। आईएमडी ने मध्य प्रदेश को पूर्वी और पश्चिमी दो भागों में बांटा है। पूर्वी मध्य प्रदेश में 20 जिले हैं जबकि पश्चिमी मध्य प्रदेश में 31 जिले हैं। मध्य प्रदेश में कुल 52 जिले हैं। प्रदेश के टीकमगढ़ जिले को दोनों में से किसी भी हिस्से में शामिल नहीं किया गया है। इस वर्ष मानसून अपने आगमन की निर्धारित तिथि से सात दिन पहले 10 जून को मध्य प्रदेश में पहुंच गया था। मिश्रा ने कहा कि जून में तो प्रदेश में प्रचुर मात्रा में बारिश हुई लेकिन जुलाई में इस बार मौसम शुष्क देखा गया, जिसमें आमतौर पर काफी बारिश होती है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password