टीकाकरण की गई आबादी पर इसकी कारगरता को बेहतर तरीके से समझे जाने तक मास्क पहनें:कांग

नयी दिल्ली, 31 दिसंबर (भाषा) टीकों की शीर्ष विशेषज्ञ गगनदीप कांग ने बृहस्पतिवार को कहा कि लोगों को मास्क पहनना और सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करना तब जारी रखना चाहिए, जब तक कि संक्रमण के बारे में टीकाकरण की गई आबादी पर टीके के प्रभावों को बेहतर तरीके से समझ नहीं लिया जाता है।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण आबादी के कुछ हिस्से अब भी इस बारे में चिंतित हैं कि (कोविड-19 का) टीका कितना सुरक्षित है और सूचना, जागरूकता एवं संचार तैयारियां इस समस्या को दूर करने के लिए पर्याप्त रूप से नहीं की गई हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘संक्रमण पर टीकाकरण की गई आबादी में जब तक कोई बेहतर समझ नहीं बन जाती है, हमें मास्क पहनना जारी रखना चाहिए और सामजिक दूरी की प्रक्रियाओं के बारे में सोचना चाहिए। ’’

जैव प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा आयोजित एक वेबिनार में कांग ने कहा, ‘‘हम अब प्रभावकारी अध्ययनों के जरिए यह जान पाएंगे, जिन्हें फिलहाल विश्व स्वास्थ्य संगठन करा रहा है और मुझे उम्मीद है कि भारत उन अध्ययनों में शामिल होगा। ’’

टीकाकरण के बाद भी क्या कोविड-19 के प्रसार को रोकने से जुड़े व्यवहार की जरूरत होगी और टीके के कारगर होने को लेकर लोगों के मन में कितना संशय है, इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने यह कहा।

कांग अभी क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज, वेल्लोर में सेवा दे रही हैं। उन्होंने कहा कि टीके के बारे में ग्रामीण आबादी में काफी संशय है।

उन्होंने कहा, ‘‘यदि आप देश के कई हिस्सों में ग्रामीण आबादी से बात करेंगे, तो लोग बताएंगे कि टीके असुरक्षित हैं, टीके कारगर नहीं हैं और मैं सचमुच में इस बात को लेकर चिंतित हूं कि जो सारी तैयारियां की जा रही है, सरकार (टीकाकरण के बारे में) जैसी प्रचार सामग्री तैयार कर रही है, वह उस आबादी के लिए पर्याप्त रूप से अनुकूल नहीं है , जहां तक हमें इसे पहुंचाना है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए, यह बड़ी समस्या है और हमें बेहतर तैयारियां की जरूरत है। ’’

भाषा सुभाष उमा

उमा

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password