वार्न ने भारत की साहसिक बल्लेबाजी की प्रशंसा की

सिडनी, 11 जनवरी (भाषा) अपने जमाने के दिग्गज स्पिनर शेन वार्न ने भारत और आस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट श्रृंखला को ‘अद्भुत’ करार देते हुए तीसरे टेस्ट क्रिकेट मैच के पांचवें दिन भारतीय बल्लेबाजों के ‘साहसिक’ रवैये की प्रशंसा की।

भारत ने 407 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए पांच विकेट पर 334 रन बनाकर तीसरा टेस्ट ड्रा कराया। इससे श्रृंखला अब भी 1-1 से बराबर हैं। चौथा और अंतिम टेस्ट 15 जनवरी से ब्रिसबेन में खेला जाएगा।

आस्ट्रेलिया को पांचवें दिन जीत के लिये आठ विकेट और भारत को 309 रन चाहिए थे। आखिर में भारतीय बल्लेबाजों ने क्रीज पर पांव जमाकर अपनी टीम को अंतिम मैच से पहले मनोवैज्ञानिक बढ़त दिलायी।

वार्न ने मैच के बाद ट्वीट किया, ‘‘आस्ट्रेलिया और भारत के बीच क्या अद्भुत श्रृंखला चल रही है। टेस्ट क्रिकेट में आज का दिन शानदार था। भारत के साहसिक रवैये और उनके आज के प्रयासों की जितनी तारीफ की जाए कम है। यह बेजोड़ था। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘दोनों टीमों ने एससीजी (सिडनी क्रिकेट ग्राउंड) पर कोई कसर नहीं छोड़ी। मुझे इसलिए टेस्ट क्रिकेट पसंद है। ’’

भाषा

पंत आनन्द

आनन्द

Share This

0 Comments

Leave a Comment

वार्न ने भारत की साहसिक बल्लेबाजी की प्रशंसा की

सिडनी, 11 जनवरी (भाषा) अपने जमाने के दिग्गज स्पिनर शेन वार्न ने भारत और आस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट श्रृंखला को ‘अद्भुत’ करार देते हुए तीसरे टेस्ट क्रिकेट मैच के पांचवें दिन भारतीय बल्लेबाजों के ‘साहसिक’ रवैये की प्रशंसा की।

भारत ने 407 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए पांच विकेट पर 334 रन बनाकर तीसरा टेस्ट ड्रा कराया। इससे श्रृंखला अब भी 1-1 से बराबर हैं। चौथा और अंतिम टेस्ट 15 जनवरी से ब्रिसबेन में खेला जाएगा।

आस्ट्रेलिया को पांचवें दिन जीत के लिये आठ विकेट और भारत को 309 रन चाहिए थे। आखिर में भारतीय बल्लेबाजों ने क्रीज पर पांव जमाकर अपनी टीम को अंतिम मैच से पहले मनोवैज्ञानिक बढ़त दिलायी।

वार्न ने मैच के बाद ट्वीट किया, ‘‘आस्ट्रेलिया और भारत के बीच क्या अद्भुत श्रृंखला चल रही है। टेस्ट क्रिकेट में आज का दिन शानदार था। भारत के साहसिक रवैये और उनके आज के प्रयासों की जितनी तारीफ की जाए कम है। यह बेजोड़ था। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘दोनों टीमों ने एससीजी (सिडनी क्रिकेट ग्राउंड) पर कोई कसर नहीं छोड़ी। मुझे इसलिए टेस्ट क्रिकेट पसंद है। ’’

भाषा

पंत आनन्द

आनन्द

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password