अमेरिका चीन के उइगर क्षेत्र से कपास के आयात पर पाबंदी लगाएगा -



अमेरिका चीन के उइगर क्षेत्र से कपास के आयात पर पाबंदी लगाएगा

वाशिंगटन/बीजिंग, 14 जनवरी (एपी) अमेरिका ने कहा है कि वह जातीय अल्पसंख्यकों के खिलाफ अभियान के चलते चीन के उइगर क्षेत्र से कपास और टमाटर के आयात पर रोक लगाएगा।

अधिकारियों ने बुधवार को कहा कि जबरन श्रम कराने के संदेह में चीन के उत्तर-पश्चिमी प्रांत झिंजियांग से कपास, टमाटर और संबंधित उत्पादों के आयात पर रोक लगाई जाएगी।

झिंजियांग दुनिया में कपास का प्रमुख आपूर्तिकर्ता है। ऐसे में यह आदेश अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर महत्वपूर्ण असर डाल सकता है।

ट्रंप प्रशासन पहले क्षेत्र में जबरन श्रम से जुड़ी निजी कंपनियों से आयात पर प्रतिबंद्ध लगा दिया है, और अब अमेरिका ने इस अभियान से जुड़े चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिए हैं।

चीन ने अमेरिका से इस आदेश को वापस लेने की मांग की है और जबरन श्रम कराने के आरोप को झूठ बताया है।

चीन ने दुर्व्यवहार से इनकार करते हुए कहा है कि वह क्षेत्र में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और चरमपंथ को खत्म करने की कोशिश कर रहा है।

एपी पाण्डेय मनोहर

मनोहर

Share This

अमेरिका चीन के उइगर क्षेत्र से कपास के आयात पर पाबंदी लगाएगा

वाशिंगटन/बीजिंग, 14 जनवरी (एपी) अमेरिका ने कहा है कि वह जातीय अल्पसंख्यकों के खिलाफ अभियान के चलते चीन के उइगर क्षेत्र से कपास और टमाटर के आयात पर रोक लगाएगा।

अधिकारियों ने बुधवार को कहा कि जबरन श्रम कराने के संदेह में चीन के उत्तर-पश्चिमी प्रांत झिंजियांग से कपास, टमाटर और संबंधित उत्पादों के आयात पर रोक लगाई जाएगी।

झिंजियांग दुनिया में कपास का प्रमुख आपूर्तिकर्ता है। ऐसे में यह आदेश अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर महत्वपूर्ण असर डाल सकता है।

ट्रंप प्रशासन पहले क्षेत्र में जबरन श्रम से जुड़ी निजी कंपनियों से आयात पर प्रतिबंद्ध लगा दिया है, और अब अमेरिका ने इस अभियान से जुड़े चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिए हैं।

चीन ने अमेरिका से इस आदेश को वापस लेने की मांग की है और जबरन श्रम कराने के आरोप को झूठ बताया है।

चीन ने दुर्व्यवहार से इनकार करते हुए कहा है कि वह क्षेत्र में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और चरमपंथ को खत्म करने की कोशिश कर रहा है।

एपी पाण्डेय मनोहर

मनोहर

Share This

0 Comments

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password