Ujjain Mahakal Mahashivratri 2022 : आज महाशिवरात्रि पर 21 लाख दीपों के साथ जगमगाएगी बाबा की नगरी

उज्जैन। महाशिवरात्रि पर्व आज पूरे देश में Ujjain Mahakal Mahashivratri 2022  धूम धाम से मनाया जा रहा है। विश्व प्रसिद्द महाकालेश्वर की नगरी उज्जैन में इसकी छटा देखते ही बनती है। भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन शिव मय दिखाई दे रही है। महाशिवरात्रि पर्व पर महाकाल मंदिर में सबसे पहले अल सुबह 3 बजे मंदिर की पट खोले गए। बाबा महाकाल की दिव्य अलोखिक भस्म आरती की गई। जिसमे बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। देश विदेश से श्रद्धालुओं ने बाबा महाकाल जी के दिव्य अलोखिक दर्शन कर सौभाग्य प्राप्त हुआ। कल रात में ही श्रद्धालुओं महाकाल की नगरी में बड़ी संख्या में पहुँच गए है।

आज बनेगा रिकार्ड —
विश्व प्रसिद्ध बाबा महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में आज ​एक नया रिकॉर्ड बनेगा। यहां एक साथ 21 लाख दीपों के साथ बाबा की नगरी जगमगाएगी। करीब बाबा महाकाल की नगरी में बाबा महाकाल का आशीर्वाद लेने पहुंचे। सुबह 8:00 बजे के पहले ही लगभग 1 लाख 90 हजार श्रद्धालुओं ने बाबा महाकाल के सुगमता से दर्शन कर आशीर्वाद प्राप्त किया। जिला कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कंट्रोल रूम में मॉनिटरिंग की जा रही है। कंट्रोल रूम में 200 से भी ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। जिससे श्रद्धालुओं नजर बनाई हुई है। सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं और जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन श्रद्धालुओं को आसानी से दर्शन हो सके। आपको बता दें इससे पहले श्रीराम नगर अयोध्या में साढ़े नौ लाख दीपों को जलाकर ये रिकार्ड बनाया गया था।

कहां कितने दीपक —
जानकारी के अनुसार महाशिवरात्रि पर क्षिप्रा नदी के भूखी माता मंदिर घाट से लेकर रामघाट तक 12 लाख दीपक लगाए जाएंगे। 3 लाख दीपक अलग-अलग जगहों पर, घरों और विभिन्न प्रतिष्ठानों में लगेंगे। दीयों को लगाने के लिए 12 हजार स्वयं सेवक लगेंगे। इसके लिए जिला पंचायत, शिक्षा विभाग, नगर निगम और स्मार्ट सिटी को जिम्मेदारी दी गई है।

हो चुकी है रिहर्सल
कलेक्टर आशीष सिंह के अनुसार पहले 12 लाख दीये लगाने की योजना थी। लेकिन लोगों की कार्यक्रम में भागीदारी को देखते हुए लक्ष्य को बढ़ाया दिया है। सामाजिक संगठनों, स्टूडेंट्स और दूसरे धर्मों से जुड़े लोगों को भी शामिल किया गया है। समितियां भी बनाई गई हैं। क्षिप्रा किनारे 1 हजार दीपक लगाकर रिहर्सल भी की गई। एक आदमी करीब 100 दीपक लगा सकेगा। उज्जैन की महाशिवरात्रि की दीपक जलाने का कार्यक्रम अयोध्या के दीपोत्सव से बहुत अलग होगा। उनके अनुसार दीपक बनाने के टेंडर निकाले गए थे, जो उज्जैन, देवास और इंदौर में भी बनाए जा रहे हैं।

घाटों पर हो चुकी है मार्किंग

दीपोत्सव में अयोध्या का रिकॉर्ड तोड़ने के लिए उज्जैन में तैयारी कर ली गई है। कुल 21 लाख दीप जलाने के लिए अयोध्या की तरह घाटों पर मार्किंग की है। उज्जैन में रामघाट से भूखी माता घाट तक 12 लाख दीपक लगाए जाएंगे। अयोध्या की तरह उज्जैन में भी नगर निगम और स्मार्ट सिटी के साथ जिला पंचायत से जुड़े 12 हजार से अधिक स्वयं सेवक इसमें जुड़ेंगे। उज्जैन के घाटों पर 12 लाख, महाकाल मंदिर में 51 हजार, फ्रीगंज टॉवर पर एक लाख, शहर के मंगलनाथ, चिंतामन मन, काल भैरव, भूखी माता, हरसिद्धि मंदिर सहित अन्य मंदिरों पर भी दीपक जलाए जाएंगे।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password