Udaipur Murder Case : कौन था कन्हैया लाल, आखिर क्यों की गई उसकी हत्या, जानिए उदयपुर कांड़ का पूरा सच

Udaipur Murder Case : कौन था कन्हैया लाल, आखिर क्यों की गई उसकी हत्या, जानिए उदयपुर कांड़ का पूरा सच

Udaipur Murder Case : राजस्थान में उदयपुर के बीते मंगलवार की रात काली रात थी। लोग अपने कामों में व्यस्थ थे। उसी दौरान एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। वीडियो देश को हिलाकर रख देने वाला था। जैसे ही वीडियो देशभर में वायरल हुआ वैसे ही उदयपुर (Udaipur Murder Case) के हालात बिगड़ते दिखाई देने लगे। आनन-फानन में पुलिस प्रशासन ने इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी। कई इलाकों (Udaipur Murder Case) में कर्फ्यू भी लागू कर दिया गया। व्यापारियों ने बाजार बंद कर सड़कों पर उतरकर आरोपियों को पकड़ने की मांग करने लगे। हालातों को बिगड़ता देख राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लोगों से शंति बनाए रखने की अपील की और पुलिस को आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ने का आदेश दिया। पुलिस ने भी बिना देर किए आरोपियों को हिरासत में ले लिया।

हत्यारों ने जारी किया वीडियो

हत्यारों (Udaipur Murder Case) ने पीडित कन्हैया लाल (Who Kanhaiya Lal) की हत्या करते वक्ता का एक वीडियो सोशल मीडिया जारी किया था। इसके अलावा एक अन्य वीडियो में आरोपियों ने घटना की जिम्मेदारी लेते हुए कह रहे थे की उन्होंने इस्लाम की निंदा करने वालों से बदला लिया है। इतना ही नहीं हत्यारों ने वीडियो में हथियार दिखाते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हत्या करने की भी बात कही। इस वीडियों (Udaipur Murder Case) ने एक तरफ देश में चिंता का माहौल पैदा कर दिया था तो दूसरी तरफ घटना की कड़ी निंदा होने लगी थी।

कौन है कन्हैयालाल (Who Kanhaiya Lal) ?

कन्हैयालाल (Who Kanhaiya Lal) राजस्थान के उदयपुर का रहने वाला था। वह पेशे से एक टेलर था। हाल ही में बीजेपी से निष्कासित प्रवक्ता नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पोस्ट करने के लिए टेलर कन्हैयालाल (Who Kanhaiya Lal) को स्थानीय पुलिस ने गिरफ्तार किया था। 15 जून को कन्हैयालाल (Who Kanhaiya Lal) को जमानत पर रिहाई मिली थी। लेकिन कन्हैया (Who Kanhaiya Lal) को फोन पर धमकियां मिलती रही। इस बात की जानकारी उसने पुलिस को भी दी थी। लेकिन पुलिस की लापरवाही के चलते उसकी जान चली गई।

क्यों हुई कन्हैयालाल की हत्या?

दरअसल, पूर्व बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद को लेकर एक विवादित टिप्पणी की थी। जिसको लेकर देशभर में काफी बवाल हुआ। बीजेपी ने नूपुर शर्मा को पार्टी से निष्कासित भी कर दिया था। नूपुर शर्मा को पार्टी से निष्कासित होने के बाद कन्हैयालाल (Who Kanhaiya Lal)  ने नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखी थी। इसके बाद से कन्हैयालाल (Who Kanhaiya Lal) लोगों के निशाने पर आ गया था। इसी को लेकर दो लोगों ने मिलकर कन्हैयालाल की हत्या (Udaipur Murder Case) कर दी। यही नहीं हत्या के बाद दोनों हत्यारों ने धमकी भरा एक वीडियो जारी कर यह भी कहा है कि ऐसे विवादित बयान देने वालों और उनका समर्थन करने वालों के साथ यही सुलूक किया जाएगा। बताया जा रहा है कि आरोपी कन्हैयालाल (Who Kanhaiya Lal) की दुकान पर कपड़े का नाप देने के बहाने गए थे। उस दौरान एक आरोपी चुपके से वीडियो बना रहा था। जैसे ही कन्हैया ने एक आरोपी का नाप लिया तो हत्यारे ने कन्हैयालाल पर हमला बोल दिया है और एक के बाद एक करके कई बार किए।

दोनों आरोपी गिरफ्तार

हत्या(Udaipur Murder Case)  के दोनों आरोपियों को राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दोनांे हत्यारों को पुलिस ने राजसमंद के भीम इलाके से गिरफ्तार किया है। हत्या करने वालों की पहचान रियाज और मोहम्मद गौस के रूप में हुई। दोनों उदयपुर के सूरजपोल के रहने वाले है।

हत्या के बाद हुआ जमकर बवाल

राजस्थान सरकार ने घटना के मामले में धान मंडी के एएसआई को निलंबित भी कर दिया है। हत्या के बाद मालदा स्ट्रीट, कारवाड़ी में पथराव की घटनाएं हुई। इसके बाद पूरे राजस्थान में 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई। बंद पूरे राजस्थान में एक महीने के लिए धारा 144 लागू. की गई वही उदयपुर के सात थाना क्षेत्र में कर्फ्यू लागू कर दिया गया है। इसके अलावा अगले आदेश तक पुलिस अफसरों की छुट्टियां निरस्त कर दी गई है। मामले को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत ने SIT का गठन किया है। साथ ही मामले में IB और NIA जांच कर रही है।

उदयपुर मर्डर पर बोले गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा

उदयपुर की घटना दरिंदगी की पराकाष्ठा है। कांग्रेस की तुष्टिकरण की नीति के कारण वीरों की भूमि राजस्थान का तालिबानीकरण हो रहा है। ISIS की तरह एक निर्दाेष का गला रेता जाना बताता है कि कश्मीर, केरल, पश्चिम बंगाल के बाद अब राजस्थान भी कट्टरपंथियों का गढ़ बनता जा रहा है।

साध्वी प्रज्ञा का फूटा गुस्सा

उदरयपुर कन्हैयालाल कांड पर मध्यप्रदेश की राजधानी भोपास से सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का गुस्सा फूटा है उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है कि धिक्कार है हिंदुओं की हत्यारी राजस्थान गहलोत सरकार। कांग्रेस सरकार इस्तीफा दे। उदयपुर के कन्हैयालाल की जघन्य हत्या। कांग्रेस पोषित आतंकवाद की योजना का क्रियान्वयन राजस्थान से पुनः प्रारंभ। संभलकर हिंदू,हिंदुस्तान कांग्रेस अभी भी जिंदा है और देश शर्मिंदा है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password