Bhopal News: राजधानी में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहे थे दो आरोपी, पुलिस ने किया गिरफ्तार

भोपाल। प्रदेश में लोगों का कोरोना से हाल बेहाल है। अस्पतालों में मरीजों की कतारें लगी हैं। कोरोना काल में संजीवनी बने रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन की भी काफी किल्लत बनी हुई है। अब रेमडेसिविर की कालाबाजारी भी तेजी से हो रही है। हाल ही में इंदौर पुलिस ने रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते मेडिकल स्टाफ के तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। अब राजधानी में भी पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

यह दोनों आरोपी रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहे थे। आरोपियों के पास से पुलिस ने तीन इंजेक्शन भी बरामद किए हैं। कोहेफिजा थाना प्रभारी अनिल वाजपेई ने बताया कि हमें मुखबिरों द्वारा सूचना मिली थी कि दो आरोपी रेमडेसिविर इंजेक्शन को ब्लैक करने की फिराक में घूम रहे हैं। इसके बाद पुलिस ने लीड्स का पीछा करते हुए लालघाटी चौराहे से आरोपी बलराम प्रजापति और राजेन्द्र मीणा उर्फ राजा को गिरफ्तार किया है।

आरोपियों के पास से तीन इंजेक्शन भी बरामद किए गए हैं। हालांकि पुलिस ने इस बात का खुलासा नहीं किया है कि इंजेक्शन आरोपियों के पास से कहां से आए हैं। पुलिस ने बताया कि रेमडेसिविर की कालाबाजारी को लेकर लगातार कार्रवाई की जा रही है। मुखबिरों की सूचना के आधार पर लगातार कर्रावाई की जा रही है।

पहले भी इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वालों को पुलिस ने पकड़ा…
बता दें कि कोरोना के उपचार में काम आने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले 18 अप्रैल को रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहे चार युवकों को पकड़ कर उनसे चार इंजेक्‍शन बरामद किए थे।

बता दें कि कोरोना काल में मरीज रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी से जूझ रहे हैं। इंदौर पुलिस ने भी मंगलवार को तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। यह तीनों लोग रेमडेसिविर की कालाबाजारी करते थे। पुलिस ने जाल बिछाकर आरोपियों को गिरफ्तार किया था। वहीं राजधानी के हमीदिया अस्पताल से रेमडेसिविर चोरी का मामला काफी सुर्खियों में बना हुआ है। अस्पताल स्टाफ से भी लगातार पूछताछ की जा रही है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password