Khajrana Mandir: खजराना मंदिर की दान पेटी में निकला खजाना, तीन दिनों से जारी है गिनती, अब तक निकले 66 लाख से ज्यादा रुपए



Khajrana Mandir: खजराना मंदिर की दान पेटी में निकला खजाना, तीन दिनों से जारी है गिनती, अब तक निकले 66 लाख से ज्यादा रुपए

इंदौर। प्रदेश की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले शहर इंदौर का खजराना गणेश मंदिर सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यहां पूरे शहर समेत आस-पास के जिलों से भी भक्त अपना माथा टेकने आते हैं। यहां आने वाले श्रद्धालु दिल खोलकर भगवान के चरणों में अर्थदान करते हैं। यहां की दानपेटियों में निकले धन की गिनती पिछले तीन दिनों से जारी है। अब तक इन पेटियों में से 66 लाख रुपए से अधिक का दान इकट्ठा किया जा चुका है। गुरुवार के दिन पेटियों से 19 लाख 62 हजार रुपए निकले हैं। शुक्रवार को भी कमेटी द्वारा पेटियों से निकले नोटों की गिनती की जा रही है। गिनती में पहले दिन 15 लाख 95 हजार रु., दूसरे दिन 30 लाख 63 हजार रु., तीसरे दिन 19 लाख 62 हजार रुपए निकले हैं।

नोटों के साथ मिले सोने-चांदी के गहने
बता दें कि मंदिर में कुल 36 दान पेटियां हैं। इनमें 23 दानपेटियां बड़े साइज की और 13 छोटे साइज की हैं। इन सभी पेटियों को तीन दिन पहले खोला गया था। तभी से इनमें निकले नोटों की गिनती की जा रही है। यह गिनती अभी भी जारी है। नोटों के साथ इन पेटियों से सोने-चांदी के गहने भी निकले हैं। इन पेटियों से अब तक 66.21 लाख रुपए गिने जा चुके हैं। इसमें बड़ी मात्रा में चिल्लर भी निकली है। मंदिर के पुजारी ने बताया कि लॉकडाउन के बाद से पहली बार मंदिर की पेटियां खोली गईं हैं। पेटियों से निकले इन नोटों को गिनने के लिए दो मशीनों का इस्तेमाल किया जा रहा है। वहीं मंदिर प्रबंध समिति एवं बैंक अधिकारी भी पैसों की गिनती कर रहे हैं।

सांवलिया सेठ के मंदिर से मिली थी 6 करोड़ से ज्यादा की राशि
बता दें कि इससे पहले राजस्थान के चितौड़गढ़ जिले के मंडफिया स्थित प्रख्यात कृष्ण धाम भगवान श्री सांवलिया सेठ के मंदिर में बुधवार को मासिक भंडार खोला गया था। जिसमें 6 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि प्राप्त हुई। जानकारी के अनुसार इस प्रसिद्ध मन्दिर को भक्तों की ओर से अभूतपूर्व आय हुई जिसमें भेट कक्ष से 71 लाख 83000 हज़ार रुपए राशि प्राप्त हुए। कुल मिलाकर कर 6 करोड़ 88 लाख 95 हज़ार 200 रुपये की गिनती की गई थी। यहां आने वालों भक्तों की ये श्रद्धा है उनकी हर मनोकामना यहां पूरी होती है। श्री संवालिया सेठ के दरबार मे अलग अलग प्रान्तों से भक्तगण आते हैं।

Share This

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password