Tradition : यहां बाप बनता है अपनी ही बेटी का दुल्हा

Tradition : मां का बेटे से और बाप का बेटी का रिश्ता काफी पवित्र होता है। पिता अपनी बेटी को जबतक डोली में विदा नही कर देता तबतक उसकी हिफाजत करता है। लेकिन अगर आपको बताया जाए की एक ऐसी जगह है जहां बेटियों की शादी उसके पिता से ही करवा दी जाती है। तो आप शायद इस बात पर यकीन नहीं करेंगे। लेकिन यह बात बिल्कुल सत्य है। दरअसल, हमारे समाज में कई अजीबोगरीब प्रथाएं है, जो हमे जानने पर मजबूर कर देती है। तो कभी-कभी हम उन प्रथाओं को सुनकर अपनी हंसी नहीं रोक पाते है। आज हम आपको एक ऐसी ही प्रथा के बारे में बताने जा रहे है जो आपको सोचने पर मजबूर कर देगी की आखिर समाज में ये हो क्या रहा है?

जानिए अजीबोगरीब प्रथा

हम बात कर रहे है बांग्लादेश के मंडी जन जाति की अजीबोगरीब परंपरा की। इस प्रथा के अनुसार यहां बेटियों की शादी उनके पिता से ही कर दी जाती है। इस प्रथा की शिकार हुई एक महिला ने अपना दर्द बयां करते हुए बताया है। यहां रहने वाली 30 वर्ष की ओरोला के पिता की मृत्यु तब हो गयी थी जब वह बहुत ही छोटी थी। ओरोला इतनी छोटी थी कि उनकी मां ने दूसरी शादी कर ली। ओरोला ने बताया कि उनके दूसरी पिता का नाम नॉटेन था। नॉटेन को वह बहुत पसंद करती थी और यही सोचती थी कि उसकी मां कितनी किस्मत वाली है जिसे नॉटेन जैसा पति मिला। लेकिन जब ओरोला बड़ी हुई तब उसे पता चला कि उसके दूसरे पिता ही उसके पति हैं। ये सुनते ही ओरोला के कदमों तले जमीन खिसक गई। उसने पिता की तरह जिस आदमी को देखा, बाद में पता चला कि तीन साल की उम्र में ही उसकी शादी पिता से करवा दी गई है।

ऐसी है ये कुप्रथा

यह एक ऐसी प्रथा है जहां कम उम्र में विधवा हुई लड़कियों की शादी दूसरे व्यक्ति से करवा दी जाती है और जब वह महिला किसी बेटी को जन्म देती है तो उसकी शादी भी उसी व्यक्ति से करवाई जाती है। माना जाता है कि कम-उम्र का पति नई पत्नी और उसकी बेटी का भी पति बनकर दोनों की सुरक्षा लंबे वक्त तक कर सकता है। ये बड़ी ही अजीब प्रथा होती है। ताज्जुब की बात तो ये है कि आज भी इस कुप्रथा को माना जाता है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password