Tokyo Paralympic 2020: तेंदुलकर ने पैरालंपिक खेलों के लिये समर्थन मांगा, पैरा खिलाड़ियों को वास्तविक नायक बताया

Sachin Tendulkar

मुंबई। अपने जमाने के दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने पैरा खिलाड़ियों को ‘वास्तविक जीवन के नायक’ करार देते हुए देशवासियों से टोक्यो पैरालंपिक Tokyo Paralympic 2020 खेलों में भाग लेने वाले खिलाड़ियों का समर्थन करने की अपील की। पैरालंपिक खेल मंगलवार से शुरू होंगे। तेंदुलकर ने सोमवार को बयान में कहा, ‘‘यह पैरालंपिक खेलों का समय है और मैं सभी भारतीयों से तोक्यो खेलों में भाग ले रहे देश के 54 खिलाड़ियों का समर्थन करने की अपील करता हूं।’’

तेंदुलकर ने कहा कि पैरा खिलाड़ियों का सफर सीख देता है Tokyo Paralympic 2020 कि यदि जज्बा है और दृढ़ संकल्प है तो व्यक्ति कुछ भी कर सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि ये महिलाएं और पुरुष विशेष क्षमताओं वाले खिलाड़ी नहीं बल्कि असाधारण क्षमता वाले महिला और पुरुष हैं जो हम सभी के लिये वास्तविक जीवन के नायक हैं।’’

तेंदुलकर ने कहा, ‘‘उनकी जीवन यात्रा से हमें सीख मिलती है कि महिलाएं और पुरुष अपने जुनून, प्रतिबद्धता और दृढ़ संकल्प के साथ क्या कर सकते हैं और हम सभी के लिये प्रेरणा का काम कर सकते हैं।’’उन्होंने कहा कि पैरालंपिक में भाग लेने वाले प्रत्येक खिलाड़ी का Tokyo Paralympic 2020 समर्थन करना जरूरी है भले ही परिणाम कुछ भी रहे।

तेंदुलकर ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि यदि हम अपने पैरालंपिक खिलाड़ियों को उसी Tokyo Paralympic 2020 तरह से समर्थन दे सकते हैं जैसा हम अपने ओलंपिक नायकों और क्रिकेटरों को देते रहे हैं तो हम बेहतर समाज स्थापित कर सकते हैं। ’’उन्होंने कहा, ‘‘और केवल पदक विजेताओं का ही नहीं बल्कि सभी का हौसला बढ़ाना आवश्यक है। पैरालंपिक खेलों में भाग ले रहे सभी 54 खिलाड़ियों में से प्रत्येक पदक नहीं जीत पाएगा।’’

तेंदुलकर ने उम्मीद जतायी कि इस बार भारत पैरालंपिक Tokyo Paralympic 2020 में अधिक पदक जीतने में सफल रहेगा। उन्होंने कहा, ‘‘मैं पढ़ रहा हूं कि हम इस बार 10 से अधिक पदक जीत सकते है। मुझे उम्मीद है कि हम और पदक जीतेंगे। रियो में हमने चार पदक जीते थे। यदि इस बार हम 10 से अधिक पदक जीतते हैं तो यह बहुत बड़ा बदलाव होगा जिसका हम सभी को जश्न मनाना चाहिए।’’

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password