Corona Vaccine: कोरोना को हराने में यह देश करेगा मदद, 5.5 करोड़ टीके आवंटित करने की योजना का एलान

वाशिंगटन। (भाषा) दुनिया से महामारी को खत्म करने के लिए जो बाइडन प्रशासन की योजना के तहत अमेरिका ने दूसरी किस्त के तौर पर दुनिया के बाकी हिस्से के लिए कोविड-19 रोधी टीके की 5.5 करोड़ खुराकें आवंटित करने की घोषणा की है। इनमें से 1.6 करोड़ खुराकें भारत, पाकिस्तान और नेपाल जैसे एशियाई देशों को दी जाएंगी। इस महीने की शुरुआत में बाइडन प्रशासन ने घोषणा की थी कि अमेरिका ने कोविड टीकों की 2.50 करोड़ खुराकों की आपूर्ति शुरू कर दी है। दूसरी किस्त के तौर पर सोमवार को घोषित 5.50 करोड़ खुराकों में से 1.60 करोड़ खुराकें भारत, नेपाल, बांग्लादेश, पाकिस्तान, श्रीलंका, अफगानिस्तान, मालदीव और भूटान जैसे एशियाई देशों को दी जाएंगी। व्हाइट हाउस द्वारा सोमवार को दिए गए विवरण में यह नहीं बताया गया है कि कितनी खुराकें किन देशों को भेजी जाएगी।

दुनिया में महामारी जल्द होगी खत्म

क्षेत्रवार अनुमानित खुराकों की जानकारी दी गयी है। बाइडन प्रशासन ने अब तक आठ करोड़ खुराकें आवंटित की है जिसे जून अंत तक मुहैया कराने का संकल्प लिया गया है। व्हाइट हाउस ने बताया, ‘‘देश में भी कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई जारी है और दुनिया से भी महामारी को खत्म करने के लिए कदम उठाए गए हैं। राष्ट्रपति जो बाइडन ने वादा किया है कि अमेरिका दुनिया के लिए टीकों के भंडार के समान होगा। इस योजना के तहत देश में की गई आपूर्ति से टीके दान किए जा रहे हैं और राष्ट्रपति ने जून अंत तक आठ करोड़ खुराकें आवंटित करने का फैसला किया है।

1.60 करोड़ खुराकें एशिया को दी जाएंगी

इन आठ करोड़ खुराकों में से अमेरिका 75 प्रतिशत खुराकें ‘कोवैक्स’ पहल के साथ साझा करेगा और 25 प्रतिशत खुराकें संक्रमण की ज्यादा मार झेल रहे देशों को दी जाएंगी। व्हाइट हाउस ने कहा, ‘‘हमारा लक्ष्य दुनिया में टीकाकरण का कवरेज बढ़ाने, संक्रमण के मामलों से निपटने के लिए तैयारी करने और स्वास्थ्यकर्मियों तथा जोखिम वाली आबादी को प्राथमिकता, अपने पड़ोसियों एवं दुनिया के जरूरतमंद देशों की मदद करना है।’’ व्हाइट हाउस ने कहा कि बाइडन प्रशासन टीका देकर दूसरे देशों को अपने पक्ष में लामबंद करने का प्रयास नहीं करेगा। ‘कोवैक्स’ पहल के तहत साझा की जाने वाली 4.10 करोड़ खुराकों में 1.40 करोड खुराकें लातिन अमेरिका और कैरेबियाई देशों तथा 1.60 करोड़ खुराकें एशिया को दी जाएंगी।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password