वो सीरियल किलर जो इंसानों को मारकर उनके अंगों से बना लेता था घर का फ़र्नीचर

वो सीरियल किलर जो इंसानों को मारकर उनके अंगों से बना लेता था घर का फ़र्नीचर

Serial Killer Edward Theodore Jain : इतिहास के कई पन्ने सीरियल किलिंग की खौफ़नाक घटनाओं से सने पड़े हैं। इनके बारे में पढ़ते ही या जानते ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं। देखा गया है कि ऐसी घटनाओं को अंजाम देने वाले या तो मनोरोगी होते हैं या बदले की भावना उनके दिमाग़ पर ऐसी हावी हो जाती है कि वो एक के बाद एक कई हत्याओं को अंजाम दे डालते हैं।

इस कड़ी में हम आपको इतिहास के ऐसे सीरियल किलर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो न सिर्फ़ क़त्ल करता था, बल्कि इंसानी शरीर के अंगों से फ़र्नीचर और तरह-तरह की चीज़ें बनाया करता था। हम जिस सीरियल किलर की बात कर रहे हैं उसका नाम था एडवर्ड थियोडोर जैन, (Serial Killer Edward Theodore Jain) जिसे Ed Gein भी कहा जाता था। एडवर्ड अमेरिका के रहने वाला था और उसका जन्म 27 अगस्त 1906 को हुआ था। ऐसा माना जाता है कि एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) के बचपन में ही उसके माता-पिता अलग हो गए थे। इसका असर गंभीर रूप से एडवर्ड पर पड़ा और वो काफ़ी परेशान रहने लगा। धीरे-धीरे उसकी दिमाग़ी हालत ख़राब होने लगी। स्कूल से लेकर घर के आसपास उसका व्यवहार लोगों से अजीबो-ग़रीब रहता। वो स्कूल के पीछे एक जंगल में अपना ज़्यादातर समय बिताने लगा।

कब्रिस्तान से गायब होने लगे शव

एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) के घर के पीछे एक कब्रिस्तान था। वहां एक अजीब-सी घटना घटी। ऐसा पता चला कि कब्रिस्तान से शव गायब हो रहे हैं। इस घटना के आसपास के लोगों को हैरत में डाल दिया था। जब पुलिस ने जांच की, तो एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) के घर की तलाशी भी ली गई। तलाशी के दौरान एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) के घर से कई शव बरामद किए गए। साथ ही वहां और भी अजीबो-ग़रीब बात पता चली।

वहीं, ऐसा भी कहा जाता है कि एक स्थानीय महिला के लापता होने के बाद 1957 में पुलिस तलाशी के दौरान एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) के घर में दाखिल हुई थी। जहां उस महिला के शव के साथ मानव शरीर के अंगों से बनाई गई तरह-तरह की चीज़ें मिली थीं। जब एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) के घर की तलाशी ली गई, तो देखा गया कि एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) ने इंसानी शरीर के अंगों के कई तरह की चीज़ें बनाई हुईं हैं। इंसानी स्किन को उसने फ़र्नीचर पर लगाया हुआ था जैसे गद्दी लगाई जाती है। साथ ही उसने इंसानी त्वचा से दस्ताने भी बनाए थे। इसके अलावा उसने पुलिस को बताया था कि वो मृत मां के लिए इंसानी त्वचा से एक सूट भी बनाना चाहता था।

20 नवंबर 1957 को पुलिस को एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) के घर से वो कुर्सी भी मिलती है, जिसे मानव त्वचा से सजाया गया था। इसके अलावा, जब एडवर्ड के किचन की जांच की गई, तो किचन में इंसानी खोपड़ी, शरीर के विभिन्न अंग बरामद किए गए थे। एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) ने पुलिस को बताया था कि उसने साल 1954 में मैरी हॉगन और 1957 में ब्रैनिस वॉर्डन को मारा था।

7 नवंबर 1957 को एडवर्ड (Serial Killer Edward Theodore Jain) को गिरफ़्तार किया गया। वहीं, बाद में उसे Hospital भेजा गया है, जहां उसे Schizophrenia का मरीज़ घोषित कर दिया गया। इसके बाद उसके घर को जला दिया गया था। वहीं, साल साल 1984 में अस्पताल में ही एडवर्ड की मौत हो गई थी।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password