काहू ना कोउ सुख दुख कर दाता। निज कृत कर्म भोग सबु भ्राता।। आर्थत कोई किसी को सुख दुख देने वाला नहीं है। और सब अपने ही कर्मो का फल…

Read More