Somatoform Disorder : गैस, कब्ज-पेट रोग का साइकियाट्रिक कनेक्शन

नई दिल्ली। आज की बदलती लाइफ Somatoform Disorder में हर कोई किसी न किसी बीमारी Acidity से पीड़ित है। इनमें से जो सबसे अधिक बीमारी अगर किसी को घेर रही है तो वो है एसिडिटी यानि गैस और कब्जियत। जी हां ये सच है। ऐसे में क्या आप जानते हैं कि इस समस्या की जड़ शारीरिक नहीं बल्कि Mental Disorder मानसिक है। जिसे साइंस की भाषा में कहते हैं सोमेटोफॉर्म डिसऑर्डर। तो चलिए जाने माने साइकेट्रिस्ट डॉ. सत्यकांत त्रिवेदी से जानते हैं कि आखिर क्या है ये साइकियाट्रिक कनेक्शन।

हमारे शरीर को ब्रेन करता है कंट्रोल —
मनोचिकित्सक डॉक्टर सत्यकांत त्रिवेदी के अनुसार सोमेटोफॉर्म डिसऑर्डर एक प्रकार का मानसिक रोग है, जिसमें शारीरिक बीमारियों की अनुपस्थिति में भी शारीरिक लक्षण बने रहते हैं। इतना ही नहीं ये लक्षण व्यक्ति की जीवन शैली को बुरी तरीके से प्रभावित करते हैं। उनके अनुसार शरीर की हर क्रिया पर हमारे ब्रेन यानि मष्तिष्क का कंट्रोल होता है। कुछ इसी तरह आंतों का भी हमारे दिमाग से कनेक्श्न है जिसे ब्रेन गट एक्सिस कहते हैं।

क्या कहते हैं डॉ. सत्यकांत त्रिवेदी, (सीनियर साइकेट्रिस्ट, ‘यस टु लाइफ’ कैंपेन चला रहे हैं)

राहुल (परिवर्तित नाम) पिछले 15 वर्ष से अपने पेट की समस्याओं से परेशान है। पेट दर्द के साथ ही साथ उसे कभी कब्ज, तो कभी डायरिया हो जाता है। उसे ऐसा लगता है, जैसे पेट में गैस बहुत ज्यादा बन रही है। इतना ही नहीं उसे बार-बार डकारें भी आती रहती हैं। साथ ही उसे ऐसा महसूस होता है कि गैस उसके सिर और पीठ में भर गई है। जिसके चलते उसे घबराहट, अनिंद्रा, चिड़चिड़ापन के साथ अपने काम से बेरुखी सी रहती है।

स्कूल टाइम से शुरू हुई समस्या ने उसके जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया। उसके पिता के अनुसार उन्होंने कर्ज लेकर देश के कई पेट के डॉक्टरों को दिखाया। हर बार अपने ही साथी चिकित्सकों द्वारा की गई जांचों पर विश्वास न करते हुए हर डॉक्टर ने उसकी एक जैसी जांचें की, लेकिन कुछ मतलब नहीं निकला। सभी बताते हैं कि आइबीएस (इरिटेबल बावेल सिंड्रोम ) है। वे कुछ दवाइयां भी देते हैं, किन्तु उससे आराम नहीं मिलता।

राहुल की समस्या से चलते आर्थिक दबाव ने उनके घर के कई निर्णयों को भी प्रभावित किया। यू-ट्यूब पर किसी वीडियो ने उन्हें इस समस्या के लिए मनोचिकित्सक के पास जाने के लिए प्रेरित किया। कुछ महीनों के ट्रीटमेंट के पश्चात अब वह काफी बेहतर है। राहुल को इस बात का आश्चर्य है कि उन्हें साइकेट्रिस्ट के पास जाने की सलाह दूसरे डॉक्टरों से क्यों नहीं मिली?

क्या है सोमेटोफॉर्म डिसऑर्डर —
सोमेटोफॉर्म डिसऑर्डर एक प्रकार का मानसिक रोग है, जिसमें शारीरिक बीमारियों की अनुपस्थिति में भी शारीरिक लक्षण बने रहते हैं, जो कि व्यक्ति की जीवन शैली को बुरी तरीके से प्रभावित करते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के इंटरनेशनल क्लासिफिकेशन ऑफ डिजीज ने आइबीएस का उल्लेख सोमेटोफॉर्म डिसऑर्डर के अंतर्गत किया है। मस्तिष्क-आंतों के बीच तंत्रिकातंत्र में असंतुलन, हाइपोथैलेमस -पिट्यूटरी अक्ष के समन्वय पर प्रभाव, संक्रमण, आंतों के असंतुलित संचालन, आंतरिक अंगों की अतिसंवेदनशीलता, पारिवारिक समस्याओं, मानसिक रोगों की उपस्थिति आदि को प्रमुख कारणों के रूप में देखा गया है।

घबराहट, तनाव और अनिद्रा से आंतों की गति एवं आंतरिक अंगों की संवेदनशीलता प्रभावित होती है। एक शोध के अनुसार आइबीएस के लगभग 60 से 95 प्रतिशत मामलों में कोई अन्य मानसिक रोग भी देखा गया है। कई लोगों में स्वयं को नुकसान पहुंचाने के विचार भी देखे जाते हैं। प्रत्यक्ष रूप से जांचों, परामर्श और अप्रत्यक्ष रूप से कम उत्पादकता से पूरा परिवार बुरी तरीके से प्रभावित होता है। इसके कारण कई बार इस समस्या से पीडि़त अधिकतर लोग गैर-मनोचिकित्सकों के पास परामर्श के लिए जाते रहते हैं। इस बारे में पेशेवर सलाह न मिलने के कारण वे कई बार आजीवन मनोचिकित्सक से परामर्श मिलने से वंचित रह जाते हैं।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password