Shivraj Letter : शिवराज ने कमलनाथ के पत्र का दिया जवाब, बोले – आप MP के नहीं हैं, लेकिन लोगों से प्यार करना सीखिए

भोपाल। मध्यप्रदेश की मंत्री इमरती देवी पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की टिप्पणी का मुद्दा बढ़ता ही जा रहा है। जहां एक दिन पहले पूर्व सीएम कमलनाथ ने ए​क चिठ्टी लिखकर सीएम शिवराज कर कहा था कि चुनाव जीतने के लिए भाजपा ‘चुनावी मौन व्रत’ रखकर झूठ परोस रही है। ​कमलनाथ के पत्र का आज सीएम शिवराज ने जबाब दिया।

सीएम शिवराज ने पत्र Shivraj Letter  में कहा – आपको ईमानदारी से एक गरीब और अनुसूचित जाति की बेटी पर की गई अपमानजनक टिप्पणी के लिए माफी मांगनी चाहिए। मेरे विचार से आप जैसे वरिष्ठ एवं जिम्मेदार पद पर रहे कांग्रेसी नेता का अपनी गलती से बचने और उसकी सफाई में अनावश्यक तर्क देने का रवैया उचित नहीं। आपके 15 माह के शासन में महिलाओं और बेटियों पर जो अत्याचार हुए, उसके आंकड़े सभी के सामने हैं। आप की सरकार में महिलाओं के विरुद्ध होने वाले अपराध और अत्याचारों को रोकने के बजाय, अपनी एवं कांग्रेस की संस्कृति से उनको बढ़ावा देने का ही कार्य किया है।

 

ये भी पढ़े: कमलनाथ ने सीएम शिवराज को लिखा पत्र, बोले चुनाव जीतने के लिए ‘चुनावी मौन व्रत’ रखकर झूठ परोस रहे आप

मुझे बार-बार मौका मिलता रहा
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पत्र में यूपीए की सरकार के समय महिलाओं के विरुद्ध अपराधों को और निर्भया जैसे घटनाओं का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि आप बार-बार नारियल की बात उठा रहे हैं। मुझे इस बात की खुशी है कि प्रदेश के विकास के लिए अपने ईमानदार प्रयासों के कारण मुझे लगातार बड़ी-बड़ी विकास योजनाओं और परियोजनाओं को प्रारंभ करने का अवसर प्राप्त हुआ है। यही वजह है कि विकास कार्यों के शुभारंभ के शुभ अवसर पर पवित्र नारियल भारतीय संस्कृति की परंपरा के अनुसार फोड़ने का मौका मुझे बार-बार मिलता रहा है।

तबादले और भ्रष्टाचार में लगे रहे
प्रदेश के विकास को ध्यान में रखकर आपके लिए यह गर्व का विषय होना चाहिए ईर्ष्या का नहीं। मुझे खेद है कि आप स्वयं प्रदेश के विकास के बारे में सोच नहीं पाए। आपकी सरकार और आप के मंत्री पूरे समय तबादले और भ्रष्टाचार में लगे रहे। विकास कार्यों की तरफ न तो आपकी दृष्टि थी और न ही कोई प्रयास। जो व्यक्ति आज विकास कार्यों को गति दे रहा है उससे आपको ईर्ष्या हो रही है। आपको एवं आपकी पार्टी के लोगों को अपनी सोच बदलनी चाहिए।

जनता के हित के बारे में सोचे
सीएम शिवराज लिखा कि कमलनाथ जी, मैं आपसे यही कहना चाहता हूं कि आप मध्य प्रदेश और मध्य प्रदेश के लोगों को प्यार करना सीखिए भले ही आप मध्य प्रदेश के नहीं हैं, उसके बावजूद भी वे आपको स्वीकार करने की कोशिश कर रहे हैं। आप का भी फर्ज बनता है कि आप मध्य प्रदेश के विकास और यहां की जनता के हित के बारे में सोचे। ऐसा कतई नहीं होना चाहिए कि आप मध्य प्रदेश को सिर्फ लूट खसूट का एक जरिया बनाएं और अपना और अपने पार्टी के लोगों का सर्वार्थ सिद्ध करें।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password