Shahdol District Hospital : सवालों के घेरे में जिला अस्पताल, पैसे देने के बाद भी नहीं हुआ ऑपरेशन

Shahdol District Hospital

शहडोल। बच्चों की मौत को लेकर सुर्खियों में रहने वाला Shahdol District Hospital  शहडोल जिला अस्पताल, अब पैसों के लेनदेन को लेकर एक बार फिर चर्चा में है। कुशा भाऊ ठाकरे जिला अस्पताल में इलाज के लिए आए मरीजों ने एक कथित डॉक्टर और दलाल पर रुपए मांगने का आरोप लगाया है। दरअसल सोहागपुर के रहने वाले प्रकाश बर्मन का एक्सीडेंट में हाथ टूट गया था। जब उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया, तो उनसे 10 हजार रुपए की मांग की गई। आखिरकार 7 हजार रुपए में सौदा तय हुआ, लेकिन पैसे देने के बाद भी उनके हाथ का ऑपरेशन नहीं हुआ। आपको बता दें ये पहला मामला नहीं है, इससे पहले भी एक मरीज के साथ पैसों के लेनदेन का मामला सामने आ चुका है। वहीं सिविल सर्जन ने मामले की जांंच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

शव को कुत्ते नोंच रहे थे

गौरतलब है कि 3 मार्च को जिला अस्पताल Shahdol District Hospital में मानवीय संवेदनाओं को झकझोरने वाला और दिल दहलाने वाला मामला सामने आया था। अस्पताल परिसर में ही एक नवजात के शव को कुत्ते नोंच रहे थे। सुरक्षाकर्मियों ने जब देखा तो नवजात के शव को कुत्तों से बचाया था। जानकारी मिली थी कि जिला अस्पताल में 4 बच्चे पैदा हुए और चारों की मौत हो गई थी। बच्चे के शव को कुत्तों के नोंचे जाने के खुलासे के बाद अस्पताल में हड़कंप मच गया था। अस्पताल प्रबंधन ने नवजात के शव को सुरक्षित रख पुलिस को सूचना दी। अब ये पता लगाने की कोशिश हो रही है कि ये नवजात का जन्म अस्पताल में ही हुआ था फिर कहीं और से इसे लाकर फेंका गया है।

26 नवजातों की मौत हो चुकी है
बताया जा रहा है कि ये वो वही कुशाभाऊ ठाकरे अस्पताल है जहां जनवरी और फरवरी के महीने में लगातार 26 नवजातों की मौत हो चुकी है जिसके बाद शहडोल दौरे पर आए स्वास्थ्य मंत्री ने सिविल सर्जन और सीएमएचओ को हटा दिया था। मामले की गूंज विधानसभा में भी सुनाई दी। इसके बाद कलेक्टर ने भी इस अस्पताल का दौरा किया, लेकिन व्यवस्थाएं जस की तस है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password