मध्यप्रदेश में कड़ाके की ठंड जारी, दतिया में पारा 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया

भोपाल, 31 दिसंबर (भाषा) मध्यप्रदेश के अधिकांश हिस्सों में कड़ाके की ठंड जारी रही, जिससे अगले दो-तीन दिन राहत मिलने की संभावना नहीं है।

प्रदेश में सबसे कम तापमान दतिया में 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

मध्यप्रदेश में दिसंबर में यह दूसरी बार शीतलहर आई है। इससे पहले 19 से 23 दिसंबर तक प्रदेश के अधिकांश भागों में कड़ाके की ठंड पड़ी थी।

मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) भोपाल के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक जी डी मिश्रा ने बताया कि पिछले 24 घंटे में प्रदेश के धार, ग्वालियर एवं दतिया जिलों में शीतलहर का प्रभाव रहा। उन्होंने बताया कि टीकमगढ़, भोपाल, राजगढ़, इंदौर, धार, उज्जैन, छतरपुर, सागर, दमोह, खंडवा, खरगोन, रतलाम, शाजापुर, दतिया एवं गुना जिलों में भी कड़ाके की ठंड रही। उन्होंने कहा कि ग्वालियर, दतिया एवं गुना में कोहरा रहा।

मिश्रा ने बताया कि प्रदेश में सबसे कम तापमान दतिया (2.8 डिग्री सेल्सियस) में दर्ज किया गया।

उन्होंने कहा कि पिछले 24 घंटे में (बुधवार सुबह साढ़े आठ बजे से बृहस्पतिवार सुबह साढ़े आठ बजे तक) मध्यप्रदेश के 31 आईएमडी केंद्रों में न्यूनतम तापमान तीन डिग्री सेल्सियस से 10 डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज किया गया।

मिश्रा ने बताया कि उत्तर भारत में बर्फबारी होने से वहां की ठंडी हवाएं मध्यप्रदेश की ओर बह रही हैं, जिससे प्रदेश में ठंड बढ़ी है।

उन्होंने कहा कि अगले दो या तीन दिनों तक मध्यप्रदेश में इसी तहर की कड़ाके की ठंड पड़ने की संभावना है।

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि आगामी 24 घंटे में (बृहस्पतिवार सुबह साढ़े आठ बजे से शुक्रवार सुबह साढ़े आठ बजे तक) चंबल संभागों के जिलों में तथा राजगढ़, सागर, छतरपुर, टीकमगढ़, उज्जैन, शाजापुर, धार, ग्वालियर, दतिया एवं शिवपुरी जिलों में कहीं-कहीं पर शीतल दिन और धार, ग्वालियर एवं दतिया जिलों में कहीं-कहीं पर शीतलहर रहेगा। इसलिए अधिक समय तक ठंड के संपर्क में रहने से बचें।

इसके अलावा, आगामी 24 घंटे में ग्वालियर एवं चंबल संभागों के जिलों में कहीं-कहीं पर घना कोहरा और जबलपुर बालाघाट, टीकमगढ़ एवं छतरपुर जिलों में कहीं-कहीं पर हल्के से मध्यम कोहरा पड़ने की संभावना है।

भाषा रावत

अमित

अमित

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password