कोरोना वायरस से बचाव के लिए वैज्ञानिकों ने नयए एंटीबॉडी का पता लगाया

नयी दिल्ली, 13 जनवरी (भाषा) वैज्ञानिकों ने भेड़ की नस्ल लामा और अल्पैका में एक नए एंटीबॉडी की पहचान की है, जिसे कोरोना वायरस के खिलाफ इस्तेमाल किया जा सकता है।

जर्मनी में बॉन विश्वविद्यालय के नेतृत्व में एक अंतरराष्ट्रीय दल ने अध्ययन के दौरान ‘नैनोबॉडीज’ की पहचान की है जो एंटीबॉडीज से आकार में छोटे हैं।

ये उत्तकों के साथ बेहतर तालमेल कर सकते हैं और इससे बड़ी मात्रा में एंटीबॉडीज भी पैदा की जा सकती है।

अध्ययन करने वाले दल ने पाया कि नैनोबॉडीज एक साथ विभिन्न हिस्से में वायरस पर हमला करने में सक्षम है।

संक्रमण से रक्षा के लिए जीवों के शरीर में एंटीबॉडीज की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ये जीवाणु या विषाणु के प्रसार को रोकने का काम करते हैं।

बॉन विश्वविद्यालय के ‘इंस्टीट्यूट ऑफ इन्नेट इम्युनिटी’ के शोधकर्ता फ्लोरियन स्कमिड्ट ने बताया, ‘‘हमने लामा और अल्पैका में कोरोना वायरस के प्रोटीन का इस्तेमाल कर इसके नतीजों पर गौर किया। प्रतिरक्षा तंत्र ने वायरस के खिलाफ एंटीबॉडीज तैयार की।’’

बॉन विश्वविद्यालय से जुड़े और अध्ययन के लेखक पॉल अल्बर्ट कोनिग ने कहा, ‘‘परीक्षण में कई नैनोबॉडीज का पता चला जिसपर हमने आगे विश्लेषण किया। कोशिका की संरचना में वायरस के खिलाफ चार मॉलिक्यूल कारगर होते हैं। एक्स-रे और इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी जांच में आगे हमने देखा कि वायरस के स्पाइक प्रोटीन के प्रति किस तरह का ये व्यवहार करते हैं।’’

भाषा आशीष पवनेश

पवनेश

Share This

0 Comments

Leave a Comment

कोरोना वायरस से बचाव के लिए वैज्ञानिकों ने नयए एंटीबॉडी का पता लगाया

नयी दिल्ली, 13 जनवरी (भाषा) वैज्ञानिकों ने भेड़ की नस्ल लामा और अल्पैका में एक नए एंटीबॉडी की पहचान की है, जिसे कोरोना वायरस के खिलाफ इस्तेमाल किया जा सकता है।

जर्मनी में बॉन विश्वविद्यालय के नेतृत्व में एक अंतरराष्ट्रीय दल ने अध्ययन के दौरान ‘नैनोबॉडीज’ की पहचान की है जो एंटीबॉडीज से आकार में छोटे हैं।

ये उत्तकों के साथ बेहतर तालमेल कर सकते हैं और इससे बड़ी मात्रा में एंटीबॉडीज भी पैदा की जा सकती है।

अध्ययन करने वाले दल ने पाया कि नैनोबॉडीज एक साथ विभिन्न हिस्से में वायरस पर हमला करने में सक्षम है।

संक्रमण से रक्षा के लिए जीवों के शरीर में एंटीबॉडीज की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ये जीवाणु या विषाणु के प्रसार को रोकने का काम करते हैं।

बॉन विश्वविद्यालय के ‘इंस्टीट्यूट ऑफ इन्नेट इम्युनिटी’ के शोधकर्ता फ्लोरियन स्कमिड्ट ने बताया, ‘‘हमने लामा और अल्पैका में कोरोना वायरस के प्रोटीन का इस्तेमाल कर इसके नतीजों पर गौर किया। प्रतिरक्षा तंत्र ने वायरस के खिलाफ एंटीबॉडीज तैयार की।’’

बॉन विश्वविद्यालय से जुड़े और अध्ययन के लेखक पॉल अल्बर्ट कोनिग ने कहा, ‘‘परीक्षण में कई नैनोबॉडीज का पता चला जिसपर हमने आगे विश्लेषण किया। कोशिका की संरचना में वायरस के खिलाफ चार मॉलिक्यूल कारगर होते हैं। एक्स-रे और इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी जांच में आगे हमने देखा कि वायरस के स्पाइक प्रोटीन के प्रति किस तरह का ये व्यवहार करते हैं।’’

भाषा आशीष पवनेश

पवनेश

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password