Sachin Tendulkar: कहानी उस पारी की, जिसमें तेंदुलकर ने कमर दर्द के बावजूद पाकिस्तान की खटिया खड़ी कर दी थी

Sachin Tendulkar

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट के लिहाज से 1 मार्च का दिन काफी महत्वपूर्ण है। इस दिन साल 2003 में मास्टर बलास्टर सचिन तेंदुलकर ने एक ऐसी पारी खेली थी। जिसे आज भी लोग याद करते हैं। इस पारी को सचिन के करियर का सबसे शानदार पारी माना जाता है। लेकिन ये कम ही लोग जानते हैं कि सचिन ने इस पारी को काफी दर्द में खेला था। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि ये किस्सा क्या है।

सचिन ने इस पारी में 98 रन बनाए थे

यह किस्सा 2003 वर्ल्ड कप का है। सेंचुरियन में भारत और पाकिस्तान के बीच मैच था। 3 साल बाद दोनों टीम किसी टूर्नामेंट में एक-दूसरे के खिलाफ खेल रही थी। इससे आप सोच सकते हैं कि इस मैच का लेवल क्या होगा। क्रिकेट प्रेमी इस मैच को वर्ल्ड कप फाइनल से भी बड़ा मान रहे थे। दोनों टीमों पर टॉप लेवल का दबाव था। लेकिन सचिन ने इस तनाव भरे माहौल में एक शानदार पारी खेली। उन्होंने 75 गेंदों पर कुल 98 रन बनाए और इसी के बदौलत टीम इंडिया ने पाकिस्तान को 6 विकेट से हरा दिया। सचिन इस मैच में कमर दर्द से काफी परेशान थे, लेकिन उन्होंने फिर भी मैच खेला। हालांकि वो इस मैच में शतक से चुक गए थे।

शोएब ने इस पारी को लेकर क्या कहा

सचिन ने मैच में 75 गेंदों पर एक छक्के और 12 चौके की मदद से 98 रन बनाए थे। पाकिस्तानी तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने उन्हें आउट किया था। इस वाक्ये को लेकर शोएब अख्तर ने एक इंटरव्यू में कहा था कि मैं पाकिस्तानी खिलाड़ी होने के नाते उस दिन काफी खुश था। लेकिन एक क्रिकेट प्रेमी होने के नाते मुझे काफी दुख भी हुआ था। मैं दिल से चाहता था कि तेंदुलकर शतक लगाएं।

इस पारी के बाद इंजमाम भी हो गए थे फैन

सचिन के इस पारी को पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान ‘इंजमाम उल हक’ ने सर्वश्रेष्ठ पारी माना था। इंजमाम ने भी एक इंटरव्यू में कहा था कि उन्होंने इससे पहले सचिन को इस तरह से बल्लेबाजी करते हुए कभी नहीं देखा। उस दिन तेंदुलकर अलग ही मुड में थे। दर्द में होने के बावजूद उन्होंने जिस तरह से पाकिस्तानी तेज गेंदबाजों का सामना किया वह कमाल था। यह पारी उनकी महानता को दर्शाती है।

पाक ने बड़ा स्कोर खड़ा किया था

पाकिस्तान ने इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए 267 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा किया था। लोगों को लग रहा था कि सेंचुरियन की तेज पिच पर भारत शायद ही जीत पाए। क्योंकि इस लक्ष्य का बचाव करने के लिए पाकिस्तान के पास वकार यूनिस, वसीम अकरम और शोएब अख्तर जैसे तेज गेंदबाज थे। हालांकि जब सचिन और सहवाग क्रीज पर उतरे तो सबका शक दूर हो गया। दोनों ने महज 32 गेंदों में ही अर्धशतकीय साझेदारी कर ली। बीच में टीम थोड़ी सी लड़खड़ाई भी। लेकिन सचिन एक तरफ से डटे रहे। उन्होंने मोहम्मद कैफ के साथ मिलकर टीम को 150 के पार पहुंचा दिया। जब वे 28वें ओवर में आउट हुए, तब तक टीम संभल चुकी थी और भारत ने इस मैच को अपने नाम कर लिया। तेंदुलकर को 98 रनों की इस धुआंधार पारी के लिए ‘मैन ऑफ द मैच’ चुना गया।

Image source-@cricketnext

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password