Kolkata News: 10 हजार करोड़ का राशन घोटाला, ईडी कलकत्ता हाईकोर्ट

Kolkata News: 10 हजार करोड़ का राशन घोटाला, ED पहुंची कलकत्ता हाईकोर्ट, CBI को जांच सौंपने का अनुरोध

Kolkata News
Share This

हाइलाइट्स

  • ED पहुंची कलकत्ता हाईकोर्ट
  • राशन घोटाला की जांच सीबीआई को सौंपने की कही बात
  • हाईकोर्ट ने ईडी को एक हफ्ते में जबाव देने को कहा

कोलकाता। Kolkata News: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पश्चिम बंगाल में 10,000 करोड़ रुपये के कथित राशन वितरण घोटाले से संबंधित सभी मामलों की जांच राज्य पुलिस से लेकर केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) को सौंपने का अनुरोध करते हुए सोमवार को कलकत्ता उच्च न्यायालय का रुख किया।

पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा जांच स्थानांतरित करने के अनुरोध का विरोध किये जाने के बाद न्यायमूर्ति जय सेनगुप्ता ने राज्य को अदालत के समक्ष विरोध में एक हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया।

    मंत्री ज्योतिप्रिय मलिक हो चुके गिरफ्तार

अदालत ने इस संबंध में कोलकाता के बालीगंज पुलिस थाने में एक मामले के संबंध में 12 मार्च तक कोई भी अगला कदम उठाने पर रोक लगा दी, जिसमें अंतिम रिपोर्ट दाखिल कर दी गई है। ईडी ने इससे पहले मंत्री ज्योतिप्रिय मलिक को गिरफ्तार किया था, जिनके पास 2011 से 2021 तक खाद्य और आपूर्ति विभाग था। ईडी कथित घोटाले में धन के लेन-देन की जांच कर रहा है।

पश्चिम बंगाल: ममता के मंत्री ज्योतिप्रिय मलिक के कोलकाता आवास पर ED की छापेमारी | ED raids West Bengal minister Jyotipriya Mallick residence in corruption case - Hindi Oneindia

    ईडी का दावा 2 हजार करोड़ विदेश भेजे

एजेंसी ने दावा किया कि अनियमितताएं 10,000 करोड़ रुपये की हैं, जिनमें से 2,000 करोड़ रुपये अवैध तरीकों से देश के बाहर भेजे गए। ईडी के वकील ने कहा कि उसने कोलकाता सहित विभिन्न जिलों के पुलिस थानों में छह प्राथमिकी से संबंधित प्रवर्तन मामले की सूचना रिपोर्ट (ईसीआईआर) दर्ज की है, जिनकी जांच राज्य पुलिस द्वारा की जा रही है या की जा चुकी है।

   घोटाले में प्रभावशाली व्यक्ति शामिल

वकील ने दावा किया कि उन छह प्राथमिकी में उचित जांच नहीं की गई है, हालांकि पांच मामलों में आरोपपत्र दाखिल किये गए और एक में अंतिम रिपोर्ट दाखिल की गई।केंद्रीय एजेंसी ने अदालत को यह भी बताया कि इसी तरह के अन्य मामले पूरे पश्चिम बंगाल में दर्ज किए गए थे और राज्य सरकार से उनका विवरण मांगा।ईडी के वकील ने दावा किया कि कथित घोटाले में राजनीतिक रूप से प्रभावशाली व्यक्ति शामिल है।

    ईडी के वकील बोले- सीबीआई को जांच सौंपी जाए

अधिवक्ता ने आग्रह किया कि यह आवश्यक है कि मामलों की जांच सीबीआई को सौंपी जाए। प्रार्थना का विरोध करते हुए, राज्य के वकील ने कहा कि यह तथ्य कि छह में से पांच मामलों में आरोपपत्र प्रस्तुत किए गए हैं, यह दर्शाता है कि राज्य मामले की जांच के प्रति गंभीर है।

    ईडी को एक हफ्ते में जबाव दायर करने को कहा

न्यायमूर्ति सेनगुप्ता ने निर्देश दिया कि विरोध में हलफनामा एक पखवाड़े के भीतर दाखिल किया जाए, जो इसी मुद्दे पर पुलिस थानों में दर्ज किसी अन्य आपराधिक मामले का भी खुलासा करेगा। ईडी को एक सप्ताह के भीतर जवाब में अपना हलफनामा दाखिल करने के लिए कहा गया। अदालत ने राज्य को 3 मार्च को सुनवाई की अगली तारीख पर केस डायरी पेश करने का निर्देश भी दिया।

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password