RIP Bappi Lahiri : बप्पी लहरी को मिली थी मंगलसूत्र पहनने की सलाह

RIP Bappi Lahiri : बप्पी लहिरी को मिली थी मंगलसूत्र पहनने की सलाह

Bappi Lahiri : कोरोना महामारी ने देश के कई बड़े कलाकारों को हमसे छीन लिया है। बीते दिनों पहले मशहूर गायिका स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने दुनिया को अलविदा कह दिया था और अब बॉलीवुड के म्यूजिक डायरेक्टर बप्पी लहिरी ने 69 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया है। बप्पी दा अपने पहनावे को लेकर हमेशा चर्चाओं में बने रहते थे। बप्पी लहिरी कई किलों सोना पहनते थे। बप्पी लहिरी ने जब अपने जीवन की शुरूआत की थी उस दौरान उन्हें कई कष्ट झेलने पड़े। आज हम बप्पी लहिरी से जुड़ा एक किस्सा आपको बताने जा रहे है।

किस्सा एक पार्टी का है। उस पार्टी में बॉलीवुड में मशहूर अभिनेता राजकुमार भी थे। आप सभी जानते है कि राजकुमार अपने मजा​किया अंदाज को लेकर हमेशा में चर्चा मेंं बने रहते थे। वह किसी से भी कुछ भी कह दिया करते थे। राजकुमार ने एक बार अभिनेता गोविंदा द्वारा गिफ्ट में दी गई शर्ट को फाड़कर रूमाल बनवा लिया था। इतना ही नहीं राजकुमार ने एक बार तो धमेन्द्र को बंदर कह दिया था।

बप्पी को मंगलसूत्र पहनने को कहा

खैर राजकुमार के मुंहफट अंदाज के कई किस्से है। लेकिन हम आज वो बात कर रहे है जब राजकुमार ने बप्पी लहिरी को मंगलसूत्र पहनने को कह दिया था। दरअसल, हुआ कुछ यू था कि बप्पी लहिरी एक पार्टी में पहुंचे थे। बप्पी लहिरी जहां भी जाते है वह खूब सारा सोना पहने हुए ​होते है। इस पार्टी में भी बप्पी लहिरी सोना पहनकर गए थे। उसी दौरान उनकी मुलाकात राजकुमार से हो गई। बप्पी दा को खूब सारा सोना पहने देख राजकुमार ने कहा की तुमने तो एक से बढ़कर एक गहने पहने हुए हैं। बस एक मंगलसूत्र की कमी रह गई थी, वो भी पहन लेते। राजकुमार की इस बात को सुनकर बप्पी दा कुद देर के लिए सकपका से गए थे। हालांकि, बाद में बप्पी दा ने राजकुमार की बात को मजाक समझकर टाल दिया था।

बप्पी दा का करियर

आपको बता दें कि गायक बप्पी लहिरी का निधन हो गया है। 69 साल की उम्र में उन्होने मुंबई के क्रिटी केयर अस्पताल में रात करीब 11 बजे आखिरी सांस ली। बता दें कि बप्पी लहिरी का असली नाम अलोकेश लहिरी था जिनका जन्म 27 नवंबर 1952 को जलपाईगुड़ी पश्चिम बंगाल में हुआ था। उन्होने 3 साल की उम्र में तबला बजाना शुरू किया और फिर बंगाली फिल्म दादू (1972) से अपने कैरियर की शुरुआत की। बप्पी लहरी ने अपना पहली संगीत, हिंदी फिल्म नन्हा शिकारी (1973) में दिया था। वहीं ताहिर हुसैन की हिंदी फिल्म जख्मी (1975) ने उनको एक अलग पहचान दिलाई। हालांकि 80 के दशक में बॉलीवुड को उन्होने कई यादगार गाने जबकि बप्पी लहिरी ने ही ऐसे थे जिन्होने बॉलीवुड को ‘डिस्को डांस’ से इंट्रोड्यूस कराया था।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password