Rajkot AIIMS: पीएम मोदी ने रखी राजकोट एम्स की आधारशिला, बोले- चुनौती भरा रहा 2020, इलाज की आशा लेकर आ रहा 2021

Image Source: [email protected]डीडी न्यूज़

Rajkot AIIMS: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात (Gujarat) के राजकोट में एम्स की आधारशिला रखी। यह एम्स लगभग 1,195 करोड़ रुपये की लागत से बनेगा, इस संस्थान के लिए 201 एकड़ से अधिक की जगह आवंटित की गई है। इस संस्थान का निर्माण 2022 के मध्य तक पूरा होने की उम्मीद है।

आधारशिला रखने के बाद पीएम मोदी ने कहा, नया साल दस्तक दे रहा है। आज देश के मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने वाली एक और कड़ी जुड़ रही है। राजकोट में एम्स के शिलान्यास से गुजरात सहित पूरे देश के स्वास्थ्य और मेडिकल एजुकेशन को बल मिलेगा। साल 2020 में संक्रमण की निराशा और चिंताएं थी। चारों तरफ सवालिया निशान थे, लेकिन 2021 इलाज की आशा लेकर आ रहा है। वैक्सीन को लेकर भारत में हर जरूरी तैयारियां चल रही हैं। साल 2020 को एक नई नेशनल हेल्थ फेसिलिटी के साथ विदाई देना, इस साल की चुनौती को भी बताता है और नए साल की प्राथमिकता को भी दर्शाता है।

पीएम ने कहा, मुश्किल भरे इस साल ने दिखाया है कि भारत जब एकजुट होता है तो मुश्किल से मुश्किल संकट का सामना वो कितने प्रभावी तरीके से कर सकता है। भारत ने एकजुटता के साथ समय पर प्रभावी कदम उठाए, उसी का परिणाम है कि आज हम बहुत बेहतर स्थिति में हैं। जिस देश में 130 करोड़ से ज्यादा लोग हों, घनी आबादी हों। वहां करीब 1 करोड़ लोग इस बीमारी से लड़कर जीत चुके हैं।

पीएम मोदी ने कहा, बीते दो दशकों में गुजरात में जिस प्रकार का मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार हुआ है, वो बड़ी वजह है कि गुजरात कोरोना की चुनौती से बेहतर तरीके से निपट पा रहा है। एम्स राजकोट, गुजरात के हेल्थ नेटवर्क को और भी मजबूत करेगा। मेडिकल सेक्टर में गुजरात की सफलता के पीछे 2 दशकों का अनवरत प्रयास है, समर्पण और संकल्प है। बीते 6 सालों में इलाज और मेडिकल एजुकेशन को लेकर जिस स्केल पर काम हुआ है, उसका निश्चित लाभ गुजरात को भी मिल रहा है।

प्रधानमंत्री कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक, इस आधुनिक अस्पताल में 750 बिस्तर होंगे। इनमें से 30 बिस्तर आयुष ब्लॉक में होंगे। इसमें एमबीबीएस पाठ्यक्रम के लिए 125 और नर्सिंग पाठ्यक्रम के लिए 60 सीट होंगी।

इस परिसर का निर्माण केंद्रीय उपक्रम एचएससीसी लिमिटेड कर रहा है। इसकी 9 इमारतों की डिजाइन को अस्थायी मंजूरी मिल चुकी है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने डिजिटल माध्यम के जरिए पहले अकादमिक सत्र का उद्घाटन किया था। राजकोट में एम्स के पहले बैच का सत्र भी 21 दिसंबर से अस्थायी परिसर पंडित दीनदयाल उपाध्याय मेडिकल कॉलेज में शुरू हो गया है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password