Rain IN MP: प्रदेश के 15 जिलों में सूखे के हालात, आज इन जिलों में गरज-चमक के साथ हल्की बारिश के आसार



Rain IN MP: प्रदेश के 15 जिलों में सूखे के हालात, आज इन जिलों में गरज-चमक के साथ हल्की बारिश के आसार

भोपाल। प्रदेश में कुछ दिनों के ब्रेक के बाद मॉनसून (Monsoon) एक बार फिर से सक्रिय हो गया है। लेकिन इसके बाद भी प्रदेश के कई जिलों में ओसत से कम बारिश दर्ज की जा रही है। प्रदेश के कुछ जिलों में बारिश न होने से यहां हालात काफी बिगड़ चुके हैं।  कुल 15 जिलों में सूखे के हालत बन रहे हैं जिसमें इंदौर और जबलपुर भी शामिल है। वहीं मौसम विभाग के मुताबिक अगले तीन से चार दिनों में मौसम इसी तरह से बना रहने की संभावना है। आने वाले कुछ दिनों में प्रदेश के हिस्सों में रूक-रूक के हल्की बारिश देखने को मिल सकती है। मौसम विभाग के मुताबिक राजधानी भोपाल में शुक्रवार को मौसम सामान्य रहा वहीं दोपहर यहां कुछ घंटों के लिए बारिश दर्ज की गई है।।मौसम विभाग की माने तो प्रदेश में आने वाले कुछ दिनों तक मौसम ऐसा ही बना रहेगा और रूक-रूक बारिश का दौर जारी रहेगा। राजधानी भोपाल में भी हल्की बारिश सिलसिला जारी रहेगा। वहीं मौसम विभाग( IMD) ने आज भी प्रदेश के कई जिलों में भारी हल्की बारिश का अलर्ट जारी किया है।

इन जिलों में बारिश की संभावना
मौसम विभाग के मुताबिक आज भोपाल, शहडोल , होशंगाबाद जबलपुर, और ग्वालियर संभागों के जिलों और इंदौर के साथ रतलाम के जिलों में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बिजली गिरने और बौछारें पड़ने की संभावना जताई जा रही है। इसके साथ ही रीवा,शहडोल के संभागों में भी आज हल्की बारिश की संभावना है। वहीं भोपाल,होशंगाबाद,ग्वालियर, एवं चंबल संभागों के जिलों में बारिश के साथ बिजली चमकने गिरने की भी संभावना है।

इस कारण होगी बारिश
मौसम विभाग द्वारा (IMD Bhopal Warning) दी गई जानकारी के अनुसार प्रदेश में अगले 3-4 दिनों तक मौसम ऐसा ही बना रहेगा। लेकिन 6 सितंबर के बाद एक बार फिर से बारिश का सिलसिला शुरू हो सकता है। मौसम विभाग (IMD Bhopal) ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में कोई हलचल न होने के कारण प्रदेश में बारिश का सिलसिला थम गया था। अब बंगाल की खाड़ी में एक बार फिर निम्न दबाव क्षेत्र बन रहा है। इस कारण प्रदेश में एक बार फिर तेज बारिश देखने को मिल सकती है। बता दें कि प्रदेश में बीते दिनों मूसलाधार बारिश हुई है। ग्वालियर-चंबल संभाग में भारी बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति बन गई थी।

Share This

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password