Pyare Miyan Case: बच्चियों से कौन-कौन मिलने आता था, SDM ने 6 महीने का मांगा रिकॉर्ड, स्टाफ के बयान भी होंगे दर्ज

भोपाल। प्यारे मियां यौन शोषण Pyare Miyan Case की पीड़िता की मौत के बाद परिजनों ने कई तरह का आरोप लगाए है। उधर पीड़िता की मौत की न्यायिक जांच कर रहीं एडीएम माया अवस्थी ने नेहरू नगर स्थित बालिका गृह की तत्कालीन और वर्तमान में अधीक्षिका को नोटिस जारी किया है। बताया जा रहा है कि एडीएम ने तत्कालीन अधीक्षिका अंतोनिया कुजुर एक्का से पिछले 6 माह का रिकॉर्ड तलब किया है। जब से ये नाबालिग लड़कियां बालिका गृह में रह रही थीं।

बाल आयोग ने अपने स्तर पर जांच शुरू कर दी

मामले की जांच कर रही एसडीएम ने नोटिस जारी कर पूछा है कि इन बच्चियों से कौन.कौन मिलने आता था। इसमें किस नाबालिग का क्या इलाज चल रहा था। उन्हें किस तरह की दवाइयां दी जा रही थीं आदि की जानकारी मांगी है। बताया जा रहा है कि बालिका गृह के स्टाफ के अन्य लोगों को भी बयान दर्ज कराने के लिए बुलाया गया है। संभवतः एक दो दिन में सबके बयान दर्ज हो जाए। जानकारी ये भी आ रही है कि मामले की राष्ट्रीय बाल आयोग ने अपने स्तर पर जांच शुरू कर दी है।

नाबालिग की मौत के मामले में अलग से जांच की जाएगी

राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने बताया कि नाबालिग की मौत के मामले में अलग से जांच की जाएगी। इसके लिए जांच कमेटी गठित कर दी गई है। यह कमेटी दिल्ली से एक या दो दिन में भोपाल पहुंचेगी।

ये है मामला
पांच नाबालिगों का यौन शोषण करने के आरोप में भोपाल पुलिस ने जुलाई 2020 में प्यारे मियां को गिरफ्तार किया था। वह अभी जेल में है। उधर पीड़ित बालिकाओं को बाल कल्याण समिति के आदेश पर नेहरू नगर स्थित बालिका गृह में रखा था। सोमवार का दो पीड़ित बालिकाओं को नींद की गोली का ओवर डोज लेने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इनमें से एक को तो अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी, लेकिन दूसरी बालिका सोमवार रात को हमीदिया अस्पताल में भर्ती थी जहां इलाज के बाद उसने बुधवार रात को दम तोड़ दिया।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password